तीन दिन पहले बसपा से कांग्रेस में आए देवेन्द्र चौरसिया की हत्या, बसपा विधायक के पति-देवर पर केस, दोनों फरार

शिरीष सिलकारी 

हटा में कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया (54) पर शुक्रवार सुबह दिन दहाड़े जानलेवा हमला हुआ। इसमें देवेंद्र और उनका बेटा सोमेश गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों को इलाज के लिए जबलपुर ले जाया गया, जहां देवेंद्र की मौत हो गई। उनकी हत्या का आरोप पथरिया से बसपा विधायक रामबाई के पति और देवर समेत 7 लोगों पर लगा है। केस दर्ज हो गया है।

घटना के बाद हटा में तनाव बढ़ने के कारण बाजार बंद हो गए और भारी पुलिस बल तैनात करना पड़ा। देवेंद्र ने तीन दिन पहले बसपा छोड़कर कांग्रेस ज्वाइन की थी। तभी से देवेंद्र को जान से मारने की धमकियां मिल रही थीं। हमले के बाद से सभी सातों आरोपी फरार हैं, जबकि विधायक रामबाई ने इस मामले में कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया। वहीं गृह मंत्री बाला बच्चन ने कहा कि मामले की निष्पक्ष जांच कराई जा रही है। जांच के बाद जो भी दोषी होगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा।

देंवेंद्र चौरसिया और उनके बेटे सोमेश को अस्पताल लेकर पहुंचे भतीजे प्रवीण चौरसिया ने बताया कि जिला पंचायत चुनाव से पुरानी रंजिश चल रही थी। कुछ दिन पहले विधायक रामबाई के पति गोविंद सिंह ने फोन पर धमकी दी थी। शुक्रवार की सुबह 10.45 बजे देवेंद्र बेटे सोमेश के साथ पटेरा मार्ग स्थित ढोलियाखेड़ा के पास एसएसडीसी प्लांट पर गए थे। वहां पर वह अपना ऑफिस खोलने जा रहे थे। इसी दौरान विधायक रामबाई के पति गोविंद सिंह, देवर चंदू, भतीजा गोलू, लोकेश पटेल, श्रीराम शर्मा, अमजद उर्फ बूठा, जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल के सरपंच बेटे इंद्रपाल पटेल सहित 35 लोग चार गाड़ी से वहां पहुंचे। आरोपियों ने प्लांट का गेट बंद कर दिया और अंदर तलवार, लाठी, बेसवाल, कट्‌टा से हमला किया। बंदूक से हवाई फायर किया। गोविंद ने देवेंद्र चौरसिया को गाली गलौच करते कहा कि …तूने पार्टी क्यों बदली और हमला कर दिया। इसी दौरान सोमेश उन्हें बचाने आया तो उसके उपर भी हमला कर दिया। दोेनों गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हांेने बताया कि आरोपियों ने सोने की चैन और नगदी राशि की लूट भी की है।