पुलवामा को लेकर दिए विवादित बयान पर देश की जनता से माफी मांगे रामगोपाल: योगी

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि समाजवादी पार्टी (SP) के महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव ने पुलवामा घटना को लेकर जो विवादित बयान दिया है उसपर उन्हें देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए। योगी ने गुरुवार शाम होली मिलन कार्यक्रम के दौरान गोरखनाथ मंदिर में संवाददाताओं से कहा कि सपा नेता रामगोपाल यादव ने पुलवामा घटना को लेकर जो विवादित बयान दिया वह उनकी घटिया एवं तुष्टीकरण की राजनीति का परिचायक है। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के शहीद जवानों पर दिया बयान शर्मनाक है। यह देश के बहादुर जवानों के मनोबल को तोड़ने की साजिश का एक हिस्सा है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार का बयान आतंकी संगठनों के दुहसाहस को बढावा देने वाला है।

उन्होंने कहा कि सपा महासचिव को इस प्रकार के बयानों के लिए देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर व्यक्ति जानता है कि पुलवामा में पिछले 14 फरवरी की घटना के बाद देश के बहादुर जवानों ने 48 घंटे के भीतर आतंकियों को मार गिराया था। उन्होंने कहा कि आतंकवाद और उग्रवाद के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जीरो टालरेंस नीति है, जिसका परिणाम आज पूरे देश के सामने है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहली सर्जिकल स्ट्राइक के माध्यम से देश के पूर्वोत्तर राज्यों में उग्रवाद को पूरी तरह से समाप्त किया और दूसरी सर्जिकल स्ट्राइक के माध्यम से कश्मीर घाटी के आतंकियों की कमर तोड़कर रख दी। उन्होंने कहा कि बौखलाए आतंकवादी संगठनों के नापाक इरादों को पूरी तरह से बेनकाब करते हुए हमारे बहादुर जवानों ने सदैव आतंकवाद और हर प्रकार के उग्रवाद का डटकर मुकाबला कर देश की सुरक्षा को सुनिश्चत करने का काम कर रहे है।

उन्होंने कहा कि एयर स्ट्राइक के माध्यम से पाक अधिकृत कश्मीर के अलावा पाकिस्तान के बालाकोट में वायुसेना ने जितने भी आतंकी कैम्प थे उन्हें नष्ट करके शौर्य और पराक्रम का जो परिचय दिया उसका पूरी दुनिया ने लोहा माना। उन्होंने कहा कि इस पर प्रश्न उठाना अत्यंत शर्मनाक है। उन्होंने कहा कि यह वही सपा है जिसके सरकार के समय वर्ष 2012 से 2017 के बीच देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में एक हजार से अधिक दंगे हुए, हजारों र्निदोष मारे गए।

यही नहीं सरकार प्रदेश में 2012 में आने के तत्काल बाद जो सबसे शर्मनाक कार्य पहला किया था, वह प्रदेश के विभिन्न आतंकी घटनाओं के दोषियों के मुकदमों को वापस लेने की कुत्सित चेष्ठा की थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि वोट बैंक की तुष्ठीकरण की यह घटिया राजनीति इस देश की सुरक्षा को और राजनीति को कहां लेकर जाएगी यह स्वाभाविक रूप से यह महत्वपूर्ण प्रश्न सबके सामने है। उल्लेखनीय है कि सपा महासचिव रामगोपाल यादव ने इटावा में होली के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में पुलवामा की घटना पर विवादित बयान दिया था।