लखनऊ: DRM ऑफिस की सहायक एकाउंटेंट ने सुसाइड नोट लिख चौथी मंजिल से लगाई छलांग

सारिका त्रिपाठी

लखनऊ,  राजधानी में डीआरएम दफ्तर की सहायक अकाउंटेंट ने चौथी मंजिल से कूदकर जान दे दी। कमरे से मिले सुसाइड नोट में मृतका ने अधिकारी और कर्मचारियों समेत पांच पर प्रताड़ना और अभद्रता का आरोप लगाया है। पुलिस ने शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। वहीं, बताया जा रहा है कि मृतका तीन-चार महीने से अवसाद में चल रही थी। पुलिस का कहना है कि मृतका के परिवारवाले बिहार से लखनऊ को रवाना हो गए हैं। मामले की जांच कर रही है।

ये है पूरा मामला 

मामला आलमबाग क्षेत्र स्थित बिजी कॉलोनी का है। यहां मूल रूप से बिहार नालंदा के जामुन पुर निवासी सोनू (30) पुत्री बाबूलाल प्रसाद हजरतगंज स्थित डीआरएम ऑफिस में सहायक अकाउंटेंट के पद पर कार्यरत थी। रविवार सुबह सोनी ने चौथे तल से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली। सूचना पर पहुंचे पुलिस कर्मियों ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमाॅर्टम के लिए भेज दिया। मृतका यहां पर अकेली रहती थी। पुलिस ने मृतका के परिवारीजनों को सूचना दे दी है। परिवारी जन बिहार से लखनऊ के लिए रवाना हो चुके हैं।

सुसाइड नोट में लिखी ये बात 

सीओ आलमबाग संजीव सिन्हा के मुताबिक, मृतका के कमरे से एक पन्ने का सुसाइड नोट मिला है। मृतकाने पांच से छह दफ्तर के कर्मचारी और अधिकारियों पर प्रताड़ना अभद्रता का आरोप लगाया है। सोनी ने सुसाइड नोट में लिखा है कि मैं इन अधिकारियों और कर्मचारियों की प्रताड़ना से त्रस्त होकर आत्महत्या कर रही हूं।सीओ ने बताया कि सुसाइड नोट को आधार मानकर मृतका के परिवारीजन जो भी तहरीर देंगे उसके आधार पर मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी। आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

तीन-चार महीने से चल रही थी डिप्रेशन में

बताया जा रहा है कि चार से पांच महीने पहले मृतका रेलवे भर्ती अपरेंटिस-2 की परीक्षा देने दिल्ली गई हुई थी। परीक्षा के दौरान मृतका के पास से नकल की पर्ची बरामद की गई थी। उसी के बाद से मृतका डिप्रेशन में चली गई।