एसडीएम प्रताडऩा मामले में सेना के खिलाफ एफआईआर दर्ज

श्रीनगर : दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग जिला के डूरु डिवीजन के सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट (एस.डी.एम.) गुलाम रसूल वानी ने स्टेशन हॉउस ऑफिसर (एस.एच.ओ.), काजीगुंड को सेना के कुछ जवानों के खिलाफ  एफ.आई.आर. दर्ज कराने के लिए लिखित शिकायत दी है। उनका आरोप है कि कुछ आर्मी के जवानों ने नेशनल हाईवे पर उनके व उनके कर्मचारियों के साथ हाथापाई की है। पुलिस ने बुधवार को कहा कि एस.डी.एम. और अन्य सरकारी कर्मचारियों के साथ सेना के जवानों द्वारा कथित हाथापाई के मामले में पुलिस ने सेना के खिलाफ एफ.आई.आर. दर्ज कर ली है।

पुष्टि करते हुए पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि घटना के संबंध में पुलिस स्टेशन काजीगुन्ड में सेना के खिलाफ धारा 323, 341 आर.पी.सी. के तहत एफ.आई.आर. नंबर 61/2019 दर्ज किया गया है। पुलिस को लिखे गए खत में एस.डी.एम. ने आरोप लगाया है कि कुछ सैन्यकर्मियों ने करीब आधे घंटे तक बंदूक की नोक पर उन्हें और उनके कर्मचारियों को बंधक बनाए रखा।

इस बीच, एस.डी.एम. द्वारा सेना के जवानों पर मारपीट का आरोप लगाने को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। पूर्व आई.ए.एस. एवं जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट प्रमुख शाह फैसल फैसल ने एस.डी.एम. के साथ हाथापाई करने वाले सैन्य कर्मियों के खिलाफ  कार्रवाई की मांग की है। वहीं, राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री और पी.डी.पी. प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने ‘घेराबंदी की भावना’ पैदा करने के लिए प्राधिकारियों पर हमला बोला। उन्होंने भी घटना में शामिल जवानों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।