खुशी है कि मायावती जी आज हमारे साथ हैं: मुलायम सिंह

मैनपुरी: ‘मिले मुलायम कांशीराम, हवा में उड़ गए जय श्री राम’ के नारे से बीजेपी को उत्तर प्रदेश की सत्ता से उखाड़ फेंकने वाली सपा-बसपा  एक बार फिर उसी रणनीति पर काम कर रही है। स्वा. कांशीराम की गैर मैजूदगी में इस बार मायावती और मुलायम सिंह यादव साथ आए हैं। दोनों नेता मैनपुरी की रैली में एक ही मंच पर 26 साल बाद दिखाई दिए। जैसे ही मंच से दोनों नेताओं ने जनता का हाथ हिलाकर अभिवादन किया रैली स्थल पर मौजूद सपा-बसपा के लाखों कार्यकर्ता खुशी से झूम उठे।

खुशी है कि मायावती जी आज हमारे साथ: मुलायम सिंह
इस दौरान सभा को संबोधित करते हुए मुलायम सिंह यादव ने कहा कि खुशी है कि मायावती जी आज हमारे साथ में हैं। मायावती का एहसान कभी नहीं भूलूंगा। सभी लोग मायावती का हमेशा सम्मान करें। चुनाव में हमारे साथ रहना और भारी बहुमत से हमें जिताना। उन्होंने कहा कि मायावती हमारे लिए वोट मांगने आई हैं। मंच से मुलायम सिंह ने कार्यकर्ताओं से पहले से ज्यादा वोटों से जिताने की अपील की।

मुलायम सिंह को रिकार्ड मतों से विजयी बनाए: मायावती
इस दौरान मंच को संबोधित करते हुए मायावती ने कहा कि सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव को रिकार्ड मतों से विजयी बनाएं। मायावती ने कहा कि देश के वर्तमान हालात को देखकर सपा-बसपा ने गठबंधन का सख्त फैसला लिया है। मुलायम सिंह की तारीफ करते हुए मायावती ने कहा कि नेताजी ने सभी को साथ जोड़ा है। मायवती ने गेस्ट हाउस कांड का जिक्र किया, उन्होंने कहा 2 जून 1995 को हुए गेस्ट हाउस कांड के बाद भी लोकसभा चुनाव में गठबंधन का जवाब सभी चाहते होंगे। गेस्ट हाउस कांड के बाद भी सपा बसपा गठबंधन हुआ। कभी-कभी देशहित में ऐसे फैसले लेने पड़ते हैं। हम सांप्रदायिक ताकतों को रोकने के लिए एक साथ आए हैं।