बिजली सप्लाई प्रभावित होने से ईई, एई और जेई समेत 85 सस्पेंड

सुरेश पिपलोटिया 

इंदौर। बिजली सप्लाई ठीक से नहीं करने और कर्तव्यों पालन में लापरवाही को लेकर शुक्रवार को विद्युत वितरण कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों ने 174 के खिलाफ कार्रवाई की।

इनमें कार्यपालन यंत्री (ईई), सहायक यंत्री (एई), कनिष्ठ यंत्री (जेई) और लाइनमैन समेत 85 अधिकारियों-कर्मचारियों को सस्पेंड, जबकि आउट सोर्स के 89 कर्मचारियों को बर्खास्त किया गया।

कंपनी ने 15 जिलों में बिजली के वितरण एवं अन्य विभागीय कामकाज की समीक्षा की थी। अपर मुख्य सचिव (ऊर्जा) आईसीपी केशरी के उज्जैन, इंदौर एवं बड़वानी दौरे के साथ ही प्रबंध निदेशक विकास नरवाल के शाजापुर,

उज्जैन, देवास, खरगोन, धार, बड़वानी दौरे में गंभीर लापरवाही उजागर हुई थी। इसके बाद वरिष्ठ अधिकारियों ने जांच की।

जांच में बिजली वितरण में लापरवाही, लोगों से व्यवहार ठीक से नहीं करना, कार्यालयीन कामकाज के प्रति गंभीर लापरवाही, कंपनी मुख्यालय एवं वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश का पालन नहीं करना सामने आया।

इसके बाद निलंबन और बर्खास्तगी के आदेश जारी किए गए। इंदौर के कार्यपालक निदेशक गजरा मेहता ने बताया कि शहर अधीक्षण यंत्री सुब्रतो रॉय की रिपोर्ट पर शहर के छह इंजीनियर निलंबित किए गए।

इनमें सहायक यंत्री अभय पांडे डेली कालेज , सीके चंदेल एचटी सेक्शन सेंट्रल डिविजन, कनिष्ठ यंत्री राहुल यादव सुभाष चौक, भरत जैन तिलक नगर, संजय कुलकर्णी सिरपुर, अमरसिंह सोलंकी डेली कॉलेज शामिल हैं।

सस्पेंड होने वालों में इंदौर शहर के 10 लाइनमैन भी शामिल हैं, जबकि आउट सोर्स के 15 कर्मचारी बर्खास्त किए गए।

ग्रामीण क्षेत्र में भी लापरवाही

इंदौर ग्रामीण के अधीक्षण यंत्री अशोक शर्मा ने बताया कि सहायक यंत्री सुशील कैथवास महू, कनिष्ठ यंत्री अरविंद जैन चिकलौंडा, विपिन जैन सिमरोल, अशोक ठाकुर तिल्लौर और चार लाइनमैन को सस्पेंड किया गया। आठ आउससोर्स कर्मचारी सेवा से हटाए गए।

बड़वानी ग्रामीण के कार्यपालन यंत्री प्रमोद सोनी पर भी गाज गिरी। इंदौर राजस्व संभाग में 30 कर्मचारी-अधिकारी निलंबित किए गए, जबकि 60 आउट सोर्स कर्मचारी बर्खास्त किए गए।शुजालपुर के कार्यपालन यंत्री पीसी कंसोतिया, उज्जैन पश्चिम शहर संभाग के कार्यपालन यंत्री आरजी भावसार, सात कनिष्ठ यंत्री एवं 44 लाइनमैन को सस्पेंड किया गया।