दारोगा पुत्र की छेड़छाड़ से तंग छात्रा ने छत से लगाई छलांग, कमर और दोनों पैर टूटे

सारिका त्रिपाठी

लखनऊ,  राजधानी में एक छात्रा ने दारोगा के बेटे की छेड़छाड़ से त्रस्त होकर आत्महत्या का प्रयास किया। घटना में उसके कमर और दोनों पैर टूट गए। गंभीर हालत में बलरामपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया। उधर, पुलिस अारोपित दारोगा के बेटे को बचाने में लगी रही। पीडि़ता के पिता का आरोप है कि मामले की सूचना देने थाने पहुंचे तो भगा दिया गया। वहीं, अ‍ाला अधिकारियों से गुहार के बाद पुलिस ने आरोपित दारोगा के बेटे को गिरफ्तार कर लिया। छात्रा के पिता इंटेलिजेंस विभाग में कर्मचारी है।

ये है पूरा मामला

मामला गुडंबा थाना क्षेत्र स्थित राजीव नगर का है। यहां की रहने वाली छात्रा ने एक दारोगा के बेटे से तंग आकर छत से कूदकर आत्महत्या का प्रयास किया। छात्रा के पिता के मुताबिक, एक साल पहले बेटी ने बीटेक की पढ़ाई पूरी कर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रही है। राजकुमार यादव घर से कुछ दूरी पर रहता था। वह लगातार कई महीनों से उनकी बेटी के साथ छेड़छाड़ और अभद्रता कर रहा था। बुधवार की शाम बेटी ममेरे भाई के साथ कोचिंग जा रही थी। इस बीच खुर्रम नगर चौराहे के पास राजकुमार यादव कार से पहुंचा। उसने बेटी को जबरन कार में घसीटने का प्रयास किया। विरोध पर ममेरे भाई को पीटा। शोर मचाने पर आसपास के लोग दौड़े तो आरोपित भाग निकला। छात्रा के पिता इंटेलिजेंस विभाग में कर्मचारी है।

मामले को दबाने में लगी रही पुलिस 

मामले की जानकारी मिलते ही छात्रा के पिता खुर्रम नगर चौकी पहुंचे। पुलिस ने मामले को झूठा करार देते हुए को भगा दिया। इसके बाद गुरुवार को छात्रा का पिता सीओ गाजीपुर कार्यालय पहुंचा, लेकिन वहां पर नहीं मिले। वहीं, देर शाम छात्रा ने घर में दूसरे तल पर चढ़कर छलांग लगा दी। अाननफानन में छात्रों को गंभीर हालत में बलरामपुर अस्पताल भर्ती कराया गया। घटना में छात्रा के दोनों पैर और कमर टूट गई।

अधिकारियों से गुहार के बाद आरोपित गिरफ्तार 
उधर, आरोप है कि पुलिस लगातार मामले को दबाती रही। छात्रा के पिता ने अधिकारियों से गुहार की। इसके बाद सूचना पर पहुंचे इंस्पेक्टर गुडंबा ने छात्रा के पिता की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया। शुक्रवार को पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया।