पति धर्म निभाने में फंसे ‘शॉटगन’, कांग्रेसियों ने दी नसीहत- सार्वजनिक जीवन में विचारधारा महत्वपूर्ण

सारिका त्रिपाठी

लखनऊ, हाल ही में भाजपा का दामन छोड़कर हाथ का पंजा थामने वाले फिल्म अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा अब कांग्रेस के लिए मुसीबत बन रहे हैं। पति धर्म व पार्टी धर्म के बीच फंसे ‘शॉटगन’ ने पति धर्म अपनाया। इस पर कांग्रेसियों ने शत्रुघ्न को नसीहत दी और कहा कि रिश्ते निजी जीवन में महत्वपूर्ण होते हैं, सार्वजनिक जीवन में विचारधारा। वैचारिक प्रतिबद्धता में भटकाव नहीं होना चाहिए।

दरअसल, शत्रुघ्न सिन्हा का जब भाजपा ने बिहार के पटना साहिब से टिकट काटा तो वह कांग्रेस में शामिल हो गए। कांग्रेस ने तत्काल उन्हें पटना साहिब से टिकट दे दिया। लखनऊ लोकसभा सीट से उनकी पत्नी पूनम सिन्हा को सपा ने टिकट दिया है। वह महागठबंधन की उम्मीदवार हैं, जबकि कांग्रेस ने यहां आचार्य प्रमोद कृष्णम् को उतारा है। गुरुवार को शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस प्रत्याशी के बजाय पत्नी पूनम सिन्हा का नामांकन कराने लखनऊ आए। उन्होंने राजधानी में रोड शो भी किया।

इस पर कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद कृष्णम् ने आपत्ति जताते हुए शत्रुघ्न को पति धर्म के साथ ही अब पार्टी धर्म निभाने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि शत्रुघ्न सिन्हा एक दिन उनका प्रचार कर पार्टी धर्म का भी निर्वहन करें। ‘…अबे खामोश’ डायलॉग से सिने प्रेमियों के दिल में जगह बनाने वाले शत्रुघ्न के इस व्यवहार से यूपी के कांग्रेसी नेता दुखी हैं।