बिजली कटौती पर बड़ी कार्रवाई, 85 सस्पेंड, 89 हुए बर्खास्त

इंदौर: लोकसभा चुनाव में कुछ ही दिन शेष है लेकिन बिजली की हो रही लगातार कटौती पर प्रशासन सख्त हो गया है। अघोषित बिजली कटों को लेकर सरकार द्वारा सख्ती दिखाने के बाद शुक्रवार को इंदौर-उज्जैन संभाग में बिजली कंपनी ने 174 अफसरों व कर्मचारियों पर बड़ी कार्रवाई की।

इन अधिकारियों में 85 को सस्पेंड और 89 आउट सोर्स कर्मचारियों को सेवा से पृथक कर दिया है। इनमें इंदौर के 6 सहायक इंजीनियर और 10 लाइनमैन भी सस्पेंड हैं। उधर, बिजली कटौती को लेकर शनिवार को कांग्रेसियों ने विद्युत वितरण कंपनी पहुंचकर अघोषित बिजली कटौती को लेकर नाराजगी जाहिर करते हुए ज्ञापन सौंपा। उन्हाेंने कहा- कम्पनी के कुछ कर्मचारी षड्यंत्रपूर्वक ऐसी हरकत कर रहे हैं। इन पर उचित कार्रवाई की जाए।
जांच में बिजली वितरण में लापरवाही, लोगों से व्यवहार ठीक से नहीं करना, कामकाज के प्रति गंभीर लापरवाही, कंपनी मुख्यालय एवं वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश का पालन नहीं करना सामने आया। जिसके कारण यह कार्रवाई की गई।

ये है पूरा मामला

इंदौर जिले में लगातार अघोषित बिजली कटौती से लोग परेशान हैं। शुक्रवार को कांग्रेस कार्यालय में लोकसभा चुनाव को लेकर बैठक चल रही थी, जिसमें प्रदेश के दो मंत्री शामिल थे। बैठक के समय अचानक बत्ती गुल हो गई, जिसके बाद मंत्री ने बिजली सीएमडी को फोन लगाकर अधिकारियों को जमकर फटकारा। मंत्री की फटकार के बाद बिजली कंपनी हरकत में आई और अधिकारियों पर कार्रवाई की।