दो दशक से शहर में रह रहे पाकिस्तानी दंपति को पुलिस ने किया गिरफ्तार, बनवा लिया था फर्जी पासपोर्ट

निताबेनिबॉगडे 

मुंबई. पिछले दो दशकों से शहर में अवैध रूप से रह रहे एक पाकिस्तानी जोड़े को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनके पास से पाकिस्तानी नागरिकता के सबूत मिले हैं।

गिरफ्तार किए गए दंपति की पहचान 55 वर्षीय अहमद दाउदानी और उनकी पत्नी अशरफ के रूप में हुई है। अहमद मुंबई के अंधेरी रेलवे स्टेशन के बाहर हेलमेट बेचता था और उनकी पत्नी एक गृहिणी हैं।
1986 में भारत छोड़ चले गए थे पाकिस्तान

दोनों को अंधेरी (पश्चिम) में ग्रीन पार्क सोसाइटी से पकड़ा गया है। दोनों के पास से पाकिस्तानी नागरिकता के सबूत मिले हैं। दंपति को इंस्पेक्टर प्रफुल्ल वाघ ने एक टिप-ऑफ के आधार पर पकड़ा। इससे पहले, अहमद एक भारतीय नागरिक था उसने 1986 में भारत छोड़ दिया था और पाकिस्तान जाकर वहां की नागरिकता ले ली थी। 1999 में वह अपनी पत्नी और दो बेटियों के साथ वापस भारत लौट आया।

फर्जी दस्तावेज से बनवाया भारतीय पासपोर्ट

कथित तौर पर पूछताछ के दौरान, परिवार ने कबूल किया कि पाकिस्तान से लौटने के बाद वे मुंबई और ठाणे में रहे हैं। 2008 में अंधेरी आने से पहले वे मीरा रोड में रहते थे। दंपति ने यह भी बताया कि उन्होंने फर्जी दस्तावेजों का इस्तेमाल कर अपना पासपोर्ट हासिल किया है।

पाकिस्तान के माहौल से तंग आकर वापस आया भारत

पुलिस उपायुक्त परमजीत सिंह दहिया के मुताबिक, अहमद ने पाकिस्तान जाकर शादी कर ली थी और वहां का नागरिक बन गया। वह भारतीय नागरिकता खो चुका है। पाकिस्तान के माहौल से तंग आ कर वह ट्रेन से वापस भारत आ गया था।

ऐसे बनवाया फर्जी दस्तावेज

दहिया ने आगे उल्लेख किया कि अहमद ने फर्जी दस्तावेज जमा करके अपना भारतीय पासपोर्ट और अन्य पहचान दस्तावेज प्राप्त किए। दंपति ने पुलिस को यह भी बताया कि मीरा रोड में रहने के दौरान, उन्होंने एक एजेंट से संपर्क किया, जिसने उन्हें परिवार के लिए भारतीय पासपोर्ट प्राप्त करने में मदद की। साथ ही, एजेंट ने उन्हें आधार और पैन कार्ड प्राप्त करने में भी मदद की थी।