पीपल विवाह


बौंली (अजयशेखर शर्मा)
बौंली— क्षेत्र के पहाड़ पिछवाड़ गोठड़ा बालाजी मंदिर स्थित पीपलबाई का सोमवार को निकट लाखनपुर गांव स्थित भगवान नरसिंह के साथ विवाह संपन्न होगा। लाखनपुर निवासी सूरजमल वैष्णव ने बताया कि इस विवाह समारोह के लिए शनिवार को लाखनपुर में लग्न पत्रिका आने के बाद गांव सहित आसपास गांव व ढाणियों में खुशी का माहौल है ।लग्न पत्रिका आने के बाद नरसिंह मंदिर सहित गांव के अन्य मंदिरों की साज-सज्जा की गई व शुभ मुहूर्त में रात्रि को नरसिंह मंदिर के सामने लग्न झिलाई का कार्यक्रम संपन्न हुआ। इस मौके पर महिलाओं ने मंगल गीत गाए व गांव के सभी वर्ग के लोग लग्न समारोह में शामिल हुए ।रविवार को नरसिंह भगवान के मंडप प्रीतिभोज समारोह में लाखनपुर ,खोहरी सहित आसपास गांव ढाणियों के ग्रामीणों ने पंगत प्रसादी ग्रहण की। सोमवार को गांव के नृसिंह भगवान, सीताराम जी व लक्ष्मी नारायण भगवान की गाजे-बाजे के साथ निकासी निकाली जाएगी व निकासी के बाद भगवान की बारात गोठडा बालाजी मंदिर पर पहुंचेगी जहां हिंदू धर्म की धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पीपल बाई (पीपल वृक्ष )का भगवान नरसिंह के साथ पाणि ग्रहण संस्कार होगा ।इस विवाह को लेकर गोठड़ा के ग्रामीणों द्वारा विशेष तैयारियां की जा रही है ।गौरतलब है कि हिंदू धर्म में पीपल व तुलसी के विवाह की भगवान नारायण के संग विवाह होने की धार्मिक परंपराएं सदियों से चली आ रही है। इसी परंपरा के तहत धार्मिक आस्था को लेकर लोग हिंदू रीति से इस विभाग को संपन्न करते हैं ।इस विवाह को लेकर गत 2 दिवस से दोनों ही गांव में भक्ति का माहौल बना हुआ है ।सभी लोग विवाह की तैयारियों में जुटे हुए हैं।

फोटो —लाखनपुर गांव में लग्न समारोह के दौरान उपस्थित ग्रामीण।