सवाई माधोपुर-पीएलवी ने ड्राॅप आउट बच्चों की ली जानकारी, किया संपर्क

अजय शेखर शर्मा

राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जयपुर एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सवाई माधोपुर के संयुक्त तत्वावधान में तालुका विधिक सेवा समिति अध्यक्ष व सिविल न्यायाधीश में न्यायिक मजिस्ट्रेट तापस सोनी के निर्देशन में खंडार न्याय क्षेत्र में आने वाले स्कूल व ग्राम पंचायतों में पैरा लीगल वालंटियर्स ने पहुंचकर ब्रिंग ड्रॉपआउट बैक टू स्कूल अभियान के अंतर्गत ड्रॉप आउट बच्चों पर चर्चा कर उनकी जानकारी प्राप्त की।

पैरालीगल वालंटियर आलोक कुमार नाथ ने शनिवार को राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल रामपुरा में पहुंचकर ड्राप आउट 6 से 14 वर्ष एवं कक्षा बारहवीं तक के किसी न किसी कारण से विद्यालय छोड़ देने वाले बच्चों पर चर्चा कर उन्हें चिन्हित कर जानकारी जुटाई। साथ ही बच्चों के माता-पिता से व्यक्तिगत संपर्क कर उनके बारे में जानकारी प्राप्त की, जिससे निशुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा अधिनियम 2009 के अंतर्गत ड्रॉपआउट बच्चे शिक्षा से वंचित न होकर स्कूलों में पुनः प्रवेश लेकर शिक्षा पा सके। इसी तरह पैरालीगल वालंटियर बीना मिश्रा ने मीणा खेड़ी के विद्यालय में पहुंचकर ब्रिंग ड्रॉप आउट बैक टू स्कूल विशेष अभियान के अंतर्गत 6 से 14 वर्ष के प्रत्येक बच्चे ने किसी न किसी कारण से विद्यालय छोड़ देने वाले ड्राप आउट बच्चों के बारे में जानकारी प्राप्त कर चिन्हित कर बच्चों के माता-पिता से व्यक्तिगत संपर्क कर जिज्ञासाओं, समस्या और परेशानियों से अवगत होकर के बच्चों को स्कूल से पुनः जोड़ने के लिए प्रेरित किया। इसके साथ साथ पैरा लीगल वालंटियर बैकुंठनाथ मिश्रा, महेश बेरवा, महेश कुमार सेन, विनोद कुमार कुमावत, हरिप्रसाद गुर्जर एवं दिनेश कुमार बेरवा ने भी ड्राप आउट बच्चों के बारे में जानकारी प्राप्त कर चिन्हित किया। वॉलंटियर्स ने ग्राम पंचायतों में जाकर अभिभावकों से व्यक्तिगत संपर्क कर ड्राप आउट बच्चों को स्कूल से जुड़ने के लिए प्रेरित किया।