रायगढ़ में 1473 बूथ, संवेदनशील 390, सुरक्षा के लिए सिर्फ 4000 जवान

ऋषिराज शर्मा

रायगढ़. 23 अप्रैल को जिले के 1473 बूथों पर मतदान होना है। जिले में इस बार संवेदनशील और नक्सल प्रभाव वाले संवेदनशील बूथ दोनों की संख्या बढ़ी है। इस बार 390 बूथ संवेदनशील हैं। जिला पुलिस बल में सुरक्षा के लिए 9 कंपनियां बाहर से आ रही है, अफसर इसे कम बता रहे हैं। इसकी पूर्ति के पुलिस अन्य सुरक्षाबलों से मदद ले रही है। इस बार पहली दफा आरपीएफ और जीआरपी को भी सहायता के लिए पत्र लिखा गया है। गांव के साथ शहर के संवेदनशील मतदान केंद्रों में चुनाव में सुरक्षा के लिए लगभग 4 हजार जवान तैनात रहेंगे। जिले के 10 लाख 99 हजार 361 मतदाता वोट देंगे। मतदाता व मतदान केंद्रों की सुरक्षा के लिए सुरक्षा बलों की तैनाती की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। विधानसभा चुनाव में बूथों की संख्या 1467 थी। खरसिया में मतदान केंद्र बढ़ाए जाने से लोकसभा चुनाव में 1473 हैं। बूथों की संख्या तो बढ़ी है मगर बाहर से आने वाले बटालियन की संख्या इस बार बेहद कम है।विधानसभा चुनाव में 36 बटालियन बाहर से बुलाई गई थी। लोकसभा चुनाव में सिर्फ 9 बटालियन ही आ रही है। लिहाजा जिला पुलिस सुरक्षा बलों की पूर्ति करने के लिए अन्य विभागों से मदद ले रही है। ऐसा पहली बार हुआ है जब पुलिस ने आरपीएफ और जीआरपी से भी मदद मांगी है। जानकारी के अनुसार आने वाली बटालियन के अलावा होम गार्डस और वन विभाग से भी अतिरिक्त बल की मांग की गई है। जिले में एसपी से लेकर आरक्षक तक लगभग 1400 की संख्या है। इसके अलावा अतिरिक्त बल के लिए पुलिस ट्रेनिंग स्कूल और महासमुंद जिला बल से भी मदद मांगी गई है। जो चुनावी ड्यूटी के दौरान सुरक्षा के लिए जिले में तैनात रहेंगी। इसके अलावा सीएएफ, आईटीबीपी, बीएसएफ, सीआईएसएफ और वनविभाग, होमगार्डस, काटेवार सहित अन्य सुरक्षाबल मतदान केंद्रों में सुरक्षा व्यवस्था देखेंगे।