Breaking
बदलनी होंगी स्वास्थ्य क्षेत्र की प्राथमिकताएं: आम जनता की रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार किया जाना आवश्यक राष्ट्रपति चुनाव: बेलारूस में लुकाशेंको छठी बार जीते, प्रदर्शनकारियों की सुरक्षा बलों के साथ झड़प, एक की मौत ऑनलाइन परीक्षा : कश्मीर में धीमी गति की इंटरनेट सेवा छात्रों के लिए परेशानी का सबब पायलट-राहुल की मुलाकात से कांग्रेस का राजस्थान संकट सुलझ सकता है, मुख्यमंत्री गहलोत से होंगे मतभेद दूर बेरूत धमाके को लेकर उपजे जनाक्रोश के चलते लेबनान के प्रधानमंत्री ने पूरी कैबिनेट के साथ दिया इस्तीफा मुख्‍यमंत्रियों की बैठक में पीएम मोदी बोले, बाढ़ की पूर्व सूचना प्रणाली में नई तकनीक का उपयोग हो कांग्रेस सांसद के आरोपों पर पुरी का करारा पलटवार, बोले- बिना जानकारी के ना करें बात ICC बोर्ड बैठक रही बेनतीजा, नहीं बनी चेयरमैन के उम्मीदवार के नाम पर सहमति कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए मोदी सरकार के कदमों से 74 फीसद ग्रामीण संतुष्ट छह स्‍वदेशी स्वाति रडार खरीद रही सेना, 50 किमी के दायरे में दुश्‍मन के विमान को कर लेगा डिटेक्‍ट

शाहिद कोठारी के परिवार को मिला राम मन्दिर भूमि पूजन आमंत्रण

 

गजेन्द्र जाँगिड़

जोधपुर—23 जुलाई अयोध्या में 1992 के राममंदिर आंदोलन के दौरान कारसेवा में पुलिस फायरिंग में कोठारी बंधुओं की जान चली गई थी। कोठारी बंधुओं की बहन पूर्णिमा कोठारी ने राम मंदिर निर्माण में सरकार से अपनी भी भूमिका सुनिश्चित करने का आग्रह किया था। देर से ही सही पर राम मंदिर ट्रस्ट ने पूर्णिमा कोठारी की गुहार पर विचार करते हुए उन्हें राम मंदिर के शिलान्यास में शामिल होने की निमंत्रण भेजा है। राम मंदिर के भूमि पूजन का न्योता मिलने पर पूर्णिमा कोठारी ने खुशी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि 1992 में मेरे दोनों भाइयों की शहादत हुई थी। उन्होंने सबसे पहले गुंबद पर भगवा फहराया था, ऐसे में माना जाता है कि इसलिए टारगेट करते हुवे उन्हें गोली मारी गई लेकिन राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के आये फैसले से मुझे जीवन की सबसे बड़ा खुशी मिली है। पूर्णिमा कोठारी ने आगे कहा कि आज जब भी राममंदिर का जिक्र आता है तो देश मेरे भाइयों की शहादत को याद करता है, यह मेरे लिए सुखद की बात है। भाइयों को गंवाने का दुःख है लेकिन उनको शहादत के बाद परिवार ने संकल्प लिया कि राम मंदिर के लिए जब भी कारसेवा होगा तो परिवार उसमें भाग लेगा। मां और बाबू जी के साथ और उसके बाद भी कारसेवा में भाग लिया।