मंदिर माफी भूमि पूजारियों के नाम करने की मांग को लेकर सौंपा ज्ञापन

 

अजय शेखर सेदावत
बौंली —-अखिल राजस्थान पुजारी महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष बलवन्त वैष्णव के आह्वान पर राजस्थान प्रदेश के सभी उपखण्ड स्तर पर मंदिर माफ़ी भूमि पूजारियों के नाम करने की मांग को लेकर मंगलवार को उपजिला कलेक्टर को ज्ञापन दिया गया। इसी को लेकर बौंली उपखंड मुख्यालय पर भी उपखण्ड अधिकारी को ग्यापन सौंपा गया। इसी संदर्भ में पूर्व में बीस अक्टूबर को सभी जिलों कलेक्टरों को ज्ञापन दिया गया था लेकिन सरकार की तरफ से कोई कार्यवाही नही की गई । पुनः उपखण्ड स्तर पर दिए गए ज्ञापनों के क्रम में बौंली उपजिला कलेक्टर राजेश कुमार मीणा को ज्ञापन दिया गया जिसमें बताया गया कि मंदिर माफी की जमीन को 1991 में तत्कालीन सरकार ने पुजारियों की जमीन मंदिर के नाम राजस्व रिकार्ड में दर्ज कर दी थी जिसकी वजह से आज गांवों में पुजारियों पर अत्याचार होना शुरू हो गया है।इसके स्थाई समाधान के लिए 1991 के आदेश को निरस्त कर पुनः मंदिरो की जमीन पुजारियों के नाम लगाई जावे साथ ही सरकार की तरफ से मिलने वाले पी एम सम्मान निधि की राशि पुजारियों को मिले ।राज्य व केंद्र सरकार के द्वारा मिलने वाले मुवावजे ,सहकारी ऋण, kcc , बिजली कनेक्शन आदि की सुविधा भी पुजारियों को मिले ।उक्त मांगे यदि सरकार पूरी करती है तो सम्पूर्ण राजस्थान के पुजारी अपना रक्त तोलकर उनका स्वागत करेंगे।यदि मांगे नही मानी गई तो राजस्थान के सम्पूर्ण पुजारी मिलकर उग्र आंदोलन करेंगे ।ज्ञापन देने वालों में धीरज वैष्णव,हनुमान वैष्णव,राधेश्याम वैष्णव,नंदलाल वैष्णव ,सूरज मल वैष्णव, सीताराम वैष्णव, घनश्याम वैष्णव, प्रमोद कुमार गौतम, रामजीलाल वैष्णव आदि उपस्थित थे।