अटल सुरंग के नजदीक 300 टूरिस्टों को पुलिस ने बचाया, बर्फबारी के बाद सड़क-वायु मार्ग से कटा कश्मीर

 

हिमाचल प्रदेश पुलिस ने ताजा बर्फबारी के बाद रोहतांग में अटल सुरंग के निकट फंसे 300 से अधिक पर्यटकों को सुरक्षित बाहर निकाला। उधर ताजा बर्फबारी के बाद पूरे देश से कश्मीर घाटी का सड़क व वायु संपर्क टूट गया है। वहीं, श्रीनगर बर्फ की सफेद चादर से ढक गया है। घाटी में सोमवार से होने वाली 11वीं की परीक्षा रद्द कर दी गई है।

मनाली लौटते रास्ते में फंसे पर्यटक: कुल्लू के पुलिस अधीक्षक गौरव सिंह ने बताया कि शनिवार सुबह कुछ पर्यटक सुरंग पार कर गए थे। लेकिन शाम में उन्हें बर्फबारी की वजह से लाहौल में रुकने की कोई जगह नहीं मिली और फिर मनाली लौटने के दौरान वे रास्ते में फंस गए। सिंह ने बताया कि लाहौल-स्पीति पुलिस ने कुल्लू पुलिस के साथ तालमेल बैठाकर पर्यटकों को वहां से निकालने के लिए शाम में सुरंग से वाहनों को भेजा, लेकिन ये वाहन बर्फ और फिसलन भरी सड़क होने की वजह से रास्ते में ही फंस गए। करीब 70 वाहनों को पर्यटकों को सुरक्षित बाहर निकालने के कार्य में लगाया गया। धुंडी और सुरंग के साउथ पोर्टल से शनिवार देर रात 12 बजकर 33 मिनट तक सभी पर्यटकों को सुरक्षित निकाल लिया गया।

जवाहर सुरंग के आसपास 10 इंच तक बर्फबारी: कश्मीर घाटी के ज्यादातर हिस्सों में बर्फबारी के बाद घाटी का देश के अन्य हिस्सों से सड़क और वायु संपर्क कट गया है। अधिकारियों ने बताया कि ज्यादातर स्थानों पर रात में और कुछ स्थानों पर तड़के बर्फबारी शुरू हुई। उन्होंने बताया कि उत्तरी कश्मीर के कुछ इलाकों में हल्की बर्फबारी हुई जबकि मध्य और दक्षिणी कश्मीर के अधिकतर हिस्सों में मध्यम बर्फबारी हुई। वहीं घाटी के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में मध्यम से भारी बर्फबारी हुई। उन्होंने बताया कि श्रीनगर में तीन से चार इंच तक ताजा बर्फबारी हुई। वहीं काजीगुंड में नौ इंच तक बर्फबारी हुई। अधिकारियों ने बताया कि पर्यटन के लिए मशहूर पहलगाम में पांच से छह इंच तक और कोकेरनाग में नौ इंच तक बर्फबारी हुई। उत्तरी कश्मीर के मशहूर पर्यटन स्थल गुलमर्ग में चार इंच तक बर्फबारी हुई। वहीं श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग के जवाहर सुरंग के आसपास 10 इंच तक बर्फबारी हुई। ताजा बर्फबारी की वजह से राजमार्ग पर यातायात निलंबित हो गया। वहीं बर्फबारी के कारण श्रीनगर हवाई अड्डे पर विमानों का पहुंचना और उड़ान भरना बंद है। रनवे पर बर्फ जमा होने की वजह से अब तक यहां विमानों का परिचालन बंद है।

डल झील का पानी जमा: तापमान शून्य से नीचे रहने के कारण विश्व प्रसिद्ध डल झील तथा अन्य जलाशयों का पानी जम गया है। लोग अपने घरों में रह कर बाहर हो रही बर्फबारी का आनंद उठा रहे हैं। वहीं छोटे बच्चे बाहर निकलकर हिमपात का आनंद उठाते हुए तथा एक-दूसरे पर बर्फ की गेंद बनाकर फेंकते हुए दिखाई दिए। पर्यटक तथा स्थानीय लोग डल झील क्षेत्र में सुबह से ही फोटो लेते तथा बर्फ से खेलते हुए दिखाई दे रहे हैं।

पंजाब-हरियाणा में बारिश, न्यूनतम तापमान बढ़ा: पंजाब और हरियाणा में बारिश के बाद रविवार को ज्यादातर हिस्सों में न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी हुई। भारत मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने यहां बताया कि पंजाब और हरियाणा की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 11.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो कि सामान्य से छह डिग्री सेल्सियस अधिक है। हिसार, रोहतक, भिवानी, लुधियाना समेत कई स्थानों पर कोहरा भी छाया रहा। मौसम विभाग ने बताया कि अगले 24 घंटे में पंजाब और हरियाणा में कुछ-कुछ स्थानों पर भारी बारिश की संभावना है।

अलवर में ओले से फसल खराब: राजस्थान में मौसम के बदलने से रविवार सुबह राजधानी जयपुर सहित कई स्थानों पर हल्की वर्षा हुई, जबकि अलवर जिले में कई जगहों पर ओलावृष्टि हुई, इससे दर्जनों गांवों में फसल खराब हो गई हैं। पश्चिमी विक्षोम के कारण मौसम में आए बदलाव से सुबह करीब पांच बजे जयपुर, भरतपुर, अलवर सहित कई स्थानों पर बारिश हुई। जयपुर शहर में हल्की बरसात हुई। इसी तरह जयपुर जिले के शाहपुरा, बस्सी सहित कई स्थानों पर भी मावठ होने के समाचार हैं। इसी तरह भरतपुर जिले में भी कई स्थानों पर हल्की बरसात हुई। अलवर से प्राप्त समाचार के अनुसार जिले के लक्ष्मणगढ़ उपखण्ड क्षेत्र में शहदका, गुर्जर खोहरा, रोनिजा पहाड़ सहित आधा दर्जन से अधिक गांवों में सुबह लगभग पांच बजे बरसात हुई और साथ में जमकर ओलावृष्टि भी हुई। जिससे किसानों की सरसों, गेहूं, चना, प्याज और सब्जी फसलें की खराब हो गईं। मौसम विभाग के अनुसार, आगामी तीन-चार दिन तक भरतपुर, जयपुर, कोटा एवं बीकानेर संभाग के जिलों में हल्की एवं मध्यम बारिश तथा कहीं-कहीं ओलावृष्टि होने की संभावना है।

उत्तराखंड के पांच जिलों में ऑरेंज अलर्ट: मौसम विभाग ने मंगलवार के लिए प्रदेश के अधिकांश इलाकों में बारिश और ऊंचाई वाले स्थानों में भारी हिमपात का ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर एवं पिथौरागढ़ के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। यहां भारी हिमपात के कारण सड़कों पर आवागमन प्रभावित हो सकता है और बर्फ के जमाव के कारण फिसलन बढ़ सकती है। इसमें कहा गया है कि राज्य के पांच जिलों के 2500 से 3000 मीटर की ऊंचाई वाले इलाकों में भारी हिमपात हो सकता है। सोमवार को राज्य के अनेक स्थानों में ओलावृष्टि, हल्की से मध्यम वर्षा व हिमपात हो सकता है। 07 जनवरी के बाद मौसम में कुछ सुधार आने की उम्मीद है। अन्य जिलों के लिए यलो अलर्ट जारी किया गया है।