भोपाल: पीडब्ल्यूडी मंत्री को रिसीव करने नहीं पहुंचे एसडीओ और कार्यपालन यंत्री तो किया गया निलंबित

भोपाल

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर सूबे के पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव सागर पहुंचे थे, लेकिन जिला प्रशासन की तरफ से कोई भी अधिकारी सर्किट हाउस में उन्हें रिसीव करने नहीं पहुंचे थे। इसी मामले में कार्रवाई करते हुए  अनुविभागीय अधिकारी (SDO) जेएम तिवारी और कार्यपालन यंत्री हरिशंकर जायसवाल को निलंबित कर दिया गया है। इसके साथ ही दोनों अधिकारियों को भोपाल अटैच किया गया है।

आपको बता दें कि पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव सागर में 26 जनवरी को ध्वजारोहण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे। इसलिए एक दिन पहले वह रात 10 बजे भार्गव सागर सर्किट हाउस पहुंचे थे। लेकिन, प्रोटोकॉल के तहत जिला प्रशासन का कोई भी अधिकारी उन्हें रिसीव करने नहीं पहुंचा था। जबकि बताया जा रहा है कि, मंत्री के सागर आने की सूचना दोपहर में ही कलेक्टर कार्यालय को भेज दी गयी थी।

जानकारी के अनुसार, जिले के डी.एम. ने मंत्री भार्गव को रिसीव करने के लिए एसडीओ जेएम तिवारी और कार्यपालन यंत्री हरिशंकर जायसवाल की डयूटी लगाई थी, लेकिन दोनों तय समय पर सर्किट हाउस नहीं पहुंचे थे। इससे नाराज होकर भार्गव अपने गृहनगर गढ़ाकोटा चले गए थे। हालांकि सुबह मंत्री तय समय से पीटीसी ग्राउंड पहुंचे और ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली।

मंत्री ने ख़फा होकर कसा था तंज
अधिकारियों के द्वारा रिसीव न करने पर भार्गव ने तंज कसते हुए कहा था कि हो सकता है अफसर पुताई करा रहे होंगे, इसलिए नहीं आए या फिर वे दिन भर काम करते थक गए होंगे और रात में जल्दी सो गए होंगे। उन्हें प्रोटोकॉल का ध्यान नहीं रहा होगा। मंत्री ने कहा कि वे प्रदेश भाजपा में सबसे वरिष्ठ नेता है, लेकिन उन्होंने कभी 1 मिनट के लिए भी इस बात का घमंड नहीं किया। इसलिए अफसरों को भी अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए। अब लोक निर्माण विभाग ने प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने के आरोप में एसडीओ और कार्यपालन यंत्री को निलंबित कर दिया गया है। आदेश के मुताबिक दोनों इंजीनियरों को पीडब्ल्यूडी मुख्यालय भोपाल में अटैच किया गया है।