India vs England: रोटेशन पॉलिसी को लेकर हो रही आलोचनाओं पर रूट ने दिया तगड़ा जवाब

इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने मंगलवार को यहां दूसरे टेस्ट में भारत के खिलाफ 317 रन से करारी शिकस्त झेलने के बाद रोटेशन पॉलिसी और टीम सिलेक्शन को दोष देने से इनकार करते हुए कहा कि उनके पास अच्छे खिलाड़ियों का बढ़िया ग्रुप है। इंग्लैंड के बल्लेबाज भारतीय स्पिनरों का सामना करने में नाकाम रहे, जिससे चार मैचों की सीरीज 1-1 से बराबर हो गई है।

रूट ने मैच के बाद कहा, ‘मेरा काम यहां मौजूद खिलाड़ियों के हमारे ग्रुप का मैनेजमेंट करना है। मैं अपनी पूरी क्षमता से ऐसा करने की कोशिश कर रहा हूं। मुझे लगता है कि हमारे पास कुछ शानदार खिलाड़ी हैं जो यहां जीतने में सक्षम हैं।’ उन्होंने कहा, ‘टीम का चयन होने के बाद यह मेरी जिम्मेदारी है कि उनसे बेस्ट प्रदर्शन लिया जाए और अधिक से अधिक मैच जीता जाए।’ कई पूर्व दिग्गजों ने इंग्लैंड की रोटेशन पॉलिसी की आलोचना की जिसके तहत उन्हें जेम्स एंडरसन और जोस बटलर जैसे प्रभावशाली खिलाड़ियों को आराम दिया गया। दूसरे टेस्ट में आठ विकेट लेने वाले ऑफ स्पिनर मोईन अली भी स्वदेश वापस जा रहे हैं।

रूट ने कहा, ‘यह मुश्किल और चुनौतीपूर्ण है लेकिन अभी के समय में सब कुछ ऐसा ही है। कोविड-19 महामारी के दौर में हम जितना क्रिकेट खेल रहे हैं उसमें हमें सभी चीजों का मैनेजमेंट करना है।’ आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप में जगह पक्की करने के लिए इंग्लैंड को अब सीरीज के बाकी दोनों मैचों को जीतना होगा। उन्होंने अगले मुकाबले के लिए कहा, ‘हम पूरे ग्रुप को देखकर यह सुनिश्चित करने की कोशिश करेंगे कि प्लेइंग 11 खिलाड़ियों से खुश रहें और वे गुलाबी गेंद से दूधिया रोशनी में अच्छा कर सकें। वह ऐसी टीम होगी जो परिस्थितियों का फायदा उठा सके।’

उन्होंने कहा, ‘हां मोईन अली घर वापस जाना चाहते थे। उनके लिए यह काफी मुश्किल समय था। अगर खिलाड़ी बायो सिक्योर एन्वॉयरमेंट से बाहर जाना चाहते हैं तो उनके पास एक ऑप्शन है। उम्मीद है वह अच्छा महसूस करेंगे।’ मोईन कोविड-19 की चपेट में आने के कारण श्रीलंका दौरे पर मैदान पर नहीं उतर सके थे। आर्चर के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘उनकी वापसी की संभावना है। वह पिछले कुछ दिनों से अभ्यास कर रहे हैं और चयन के लिए उपलब्ध हैं।’