GST कलेक्शन लगातार पांचवें महीने 1 लाख करोड़ के पार

मंदी से बाहर निकल रही भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक और अच्छी खबर है। लगातार पांचवें महीने जीएसटी कलेक्शन एक लाख करोड़ रुपये के पार रहा और महामारी के बाद लगातार तीसरी बार 1.1 लाख करोड़ रुपए का आंकड़ा पार किया, जो अर्थव्यवस्था में सुधार का संकेत है। हालांकि, फरवरी का जीएसटी संग्रह का आंकड़ा जनवरी से कम रहा है। जनवरी में जीएसटी संग्रह 1,19,875 करोड़ रुपये रहा था।

वित्त मंत्रालय के मुताबिक, फरवरी 2021 में जीएसटी कलेक्शन 1.13 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। मंत्रालय  ने कहा कि पिछले पांच महीनों में जीएसटी कलेक्शन फरवरी महीने में पिछले साल से 7 फीसद ज्यादा है।  इससे पहले मोदी सरकार को बड़ी राहत जीडीपी के आंकड़ों पर मिली थी। तीसरी तिमाही में देश की जीडीपी ग्रोथ 0.4 फीसदी रही। फरवरी में सकल जीएसटी संग्रह 1,13,143 करोड़ रुपये रहा। इसमें केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) का हिस्सा 21,092 करोड़ रुपये, राज्य जीएसटी (एसजीएसटी) का हिस्सा 27,273 करोड़ रुपये और एकीकृत जीएसटी (आईजीएसटी) का हिस्सा 55,253 करोड़ रुपये रहा। आईजीएसटी में 24,382 करोड़ रुपये वस्तुओं के आयात पर जुटाए गए। उपकर का हिस्सा 9,525 करोड़ रुपये रहा। इसमें से 660 करोड़ रुपये वस्तुओं के आयात पर जुटाए गए।

वित्त मंत्रालय ने कहा कि पिछले पांच माह से जीएसटी राजस्व संग्रह में सुधार का रुख दिख रहा है। फरवरी, 2021 में जीएसटी संग्रह पिछले साल के समान महीने से सात प्रतिशत अधिक रहा है। बयान में कहा गया, माह के दौरान वस्तुओं के आयात से राजस्व 15 प्रतिशत ऊंचा रहा। घरेलू लेनदेन (सेवाओं के आयात सहित) से राजस्व पिछले साल के समान महीने की तुलना में पांच प्रतिशत अधिक रहा।

महीना जीएसटी संग्रह करोड़ रुपये में
जनवरी 2021 120000
फरवरी2021 113000
दिसंबर 2020 1,15,174
नवंबर 2020 1,04,963
अक्टूबर 2020 1,05,155
सितंबर 2020 95,480
अगस्त 2020 86,449
जुलाई 2020 87,422
जून 2020 90,917
मई 2020 62,009
अप्रैल 2020 32,294
मार्च 2020 97,597
फरवरी 2020 105366
जनवरी 2020 110000