विश्वनाथ धाम: बाबा का दर्शन करने के बाद कॉरिडोर से निकलेंगे भक्त, महाशिवरात्रि पर जुटने वाले भक्त देख सकेंगे कॉरिडोर

बाबा के दर्शन से वंचित रहे लाखों शिवभक्तों के लिए इस वर्ष काशी में महाशिवरात्रि विशेष होने वाली है। अनुमानित भीड़ के मुताबिक मंदिर और जिला प्रशासन ने खास व्यवस्था की है। मैदागिन की ओर से आने वाले भक्त पांचों पंडवा की ओर से होकर गर्भगृह की ओर जाएंगे, जबकि गोदौलिया से आने वाले भक्तों को बांसफाटक से ढुंढिराज गणेश मंदिर होकर दर्शन के लिए जाना होगा। इनकी निकासी निर्माणाधीन कॉरिडोर की ओर से अलग-अलग द्वारों के जरिए कराई जाएगी।

कॉरिडोर की तरफ से निकासी कराने के पीछे उद्देश्य यही है कि दुनिया भर से जुटने वाले लोग देख सकें कि कॉरिडोर कैसे आकार ले रहा है और भविष्य में वह विश्वनाथ धाम को किस रूप में देखेंगे। कॉरीडोर में चल रहे निर्माण के बीच से भक्तों को सुरक्षित निकालने के लिए मंदिर प्रबंधन की ओर से फूलप्रूफ प्लान बना लिया गया है। मैदागिन से आने वाले भक्तों की दर्शन के बाद वापसी कॉरिडोर से मणिकर्णिका की ओर निकलने वाली गली से कराई जाएगी। गोदौलिया से आने वाले भक्त कॉरिडोर से विशालाक्षी मंदिर वाली गली से लौटेंगे। वीआईपी सुगम दर्शन और दिव्यांगों की छत्ताद्वार से प्रवेश कर मंदिर के दो नंबर गेट (पुराने सरस्वती फाटक) से निकासी कराई जाएगी। मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील कुमार वर्मा ने बताया कि महाशिवरात्रि भक्तों के साथ मंदिर प्रशासन के लिए बेहद खास है, क्योंकि सावन में दूरदराज के भक्त नहीं आ सके थे। ऐसे में इस बार जबरदस्त भीड़ होने की संभावना है। इस बार भक्त देख सकेंगे कि कॉरिडोर के अंदर 24 भवनों और लाल पत्थरों का संकुल किस प्रकार तैयार किया जा रहा है।

इस बार भी भक्तों को मिलेगा झांकी दर्शन
भक्तों की भीड़ के अनुमान को देखते हुए स्पर्श दर्शन पर रोक लगा दी है। महाशिवरात्रि पर भक्तों को बाबा विश्वनाथ के झांकी दर्शन ही प्राप्त होंगे। किसी को भी गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। जल एवं दूध अर्पण करने के लिए गर्भगृह के चारों द्वारों के बाहर पीतल के विशाल पात्र लगाए जाएंगे। इनके नीचे लगी तांबे की प्लेट के माध्यम से जल एवं दूध बाबा के गर्भगृह तक जाएगा।

सुरक्षा के किए गए हैं चौकस इंतजाम
सुरक्षा की दृष्टि से एटीएस के 30 कमांडो की तैनाती हो चुकी है। शहर में 10 कंपनी सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स के जवान मौजूद रहेंगे। गोदौलिया, दशाश्वमेध, चौक और मैदागिन क्षेत्र में 25 डिप्टी एसपी, 415 दरोगा-इंस्पेक्टर, 1250 सिपाही-हेड कॉन्स्टेबल तैनाती की जाएगी। दो सौ महिला-पुरुष पुलिसकर्मी सिविल ड्रेस में श्रद्धालुओं के बीच रहेंगे।

खास बातें
बाबा के गर्भ गृह की गतिविधियां लाइव दिखाने के लिए कॉरिडोर में विशाल एलईडी स्क्रीन लगाई जाएगी
मैदागिन, गोदौलिया चौक क्षेत्र में साउंड सिस्टम से तमाम आवश्यक जानकारियां कराई जाएंगी उपलब्ध
लक्सा-गोदौलिया से लेकर मैदागिन तक का इलाका हो जाएगा नो व्हीकल जोन में तब्दील
इमरजेंसी चिकित्सा सेवा के लिए डाक्टरों की चार टीमें और आधा दर्जन एंबुलेंस होंगी तैनात