टिकटॉक पर बैन के बाद चाइनीज कंपनी बाइटडांस पर मोदी सरकार की एक और बड़ी कार्रवाई, जानिए क्यों ब्लॉक कर दिए बैंक खाते

बेहद पॉप्युलर चाइनीज मोबाइल ऐप टिकटॉक पर बैन के बाद भारत सरकार ने इसकी पैरेंट कंपनी बाइटडांस पर एक और बड़ी कार्रवाई की है। सरकार ने टैक्स चोरी के आरोप को लेकर कंपनी के कम से कम दो बैंक खातों को ब्लॉक कर दिया है। कंपनी ने संचालन ठप होने की दलील देकर कोर्ट पहुंची है। इस मामले से जुड़े दो सूत्रों ने रॉयटर्स को यह जानकारी दी है।

पिछले साल भारत और चीन के बीच एलएसी पर तनाव बढ़ने के बाद नई दिल्ली ने बाइटडांस के पॉप्युलर वीडियो ऐप टिकटॉक को बैन कर दिया था। सरकार की ओर से बैन को जारी रखने के फैसले के बाद चीनी कंपनी ने इस साल जनवरी में भारत में छंटनी का ऐलान किया था। चीन ने कई बार भारत के कदम की आलोचना की है और कहा है कि ये डब्ल्यूटीओ नियमों के खिलाफ है।

दो सूत्रों ने बताया कि मध्य मार्च में अथॉरिटीज ने बाइटडांस इंडिया के दो बैंक अकाउंट को ब्लॉक करने का आदेश दिया, जो सिटी बैंक और एचएचबीसी बैंक में हैं। भारत में बाइटडांस की ईकाई और सिंगापुर में इसकी पैतृक कंपनी टिकटॉक पीटीई लिमिटेड के बीच विज्ञापन समझौतों में टैक्स चोरी के आरोपों की वजह से ऐसा किया गया है। एक सूत्र ने बताया कि अथॉरिटीज ने सिटीबैंक और एचएसबीसी को यह भी आदेश दिया है कि बाइटडांस इंडिया को टैक्स आइडेंटिफिकेशन नंबर से जुड़े किसी और बैंक खाते से भी फंड निकालने की अनुमति ना दी जाए।

मुंबई हाई कोर्ट में दायर याचिका में बाइटडांस इंडिया ने कहा है कि इसके खातों में सिर्फ 10 मिलियन डॉलर हैं औक ब्लॉक करने का फैसला कानूनी प्रक्रिया का दुरुपयोग है। कंपनी ने यह भी कहा है कि इससे उसके लिए सैलरी और टैक्स चुकाना मुश्किल हो जाएगा। याचिका पर इस सप्ताह सुनवाई हो सकती है।

दोनों ही सूत्रों ने पहचान गोपनीय रखने की अपील की क्योंकि बैंक अकाउंट फ्रीज किए जाने और कंपनी की ओर से कोर्ट में चुनौती को सार्वजनिक नहीं किया गया है। बाइटडांस ने कहा है, ”हम इस मामले में टैक्स अथॉरिटीज के फैसले से असहमत हैं।” कंपनी ने यह भी कहा कि वह कानून अनुपालन और सरकार के सहयोग के लिए प्रतिबद्ध है। सिटीबैंक और एचएसबीसी ने टिप्पणी से इनकार किया है। वित्त मंत्रालय ने भी प्रतिक्रिया नहीं दी है।