राजस्थान के गांवों में फैल रहे कोरोना ने बढ़ाई टेंशन, संक्रमण पर लगाम के लिए राज्य सरकार ने लिया यह फैसला

राजस्थान के ग्रामीण इलाकों में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। अब राज्य सरकार ने रेपिड एंटीजन टेस्ट करने का फैसला किया है ताकि कोरोना केसों का जल्दी पता लगाया जा सके। स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने बुधवार को कहा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों और दूसरे अस्पतालों में रेपिड एंटीजन टेस्ट किया जाएगा ताकि वायरस को ग्रामीण इलाकों में फैलने से रोका जा सके।

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण तेजी से राजस्थान के ग्रामीण इलाकों में फैल रहा है और यह राज्य सरकार के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने यह भी बताया कि ग्रामीण इलाकों की स्थिति को ध्यान में रखते हुए रेपिड एंटीजन टेस्ट का फैसला लिया गया है।

शर्मा ने कहा, ”एंटीजन टेस्ट की रिपोर्ट आधे घंटे में आ जाती है। जो लोग पॉजिटिव पाए जाएंगे, उन्हें आइसोलेट करके इलाज शुरू किया जाएगा, जबकि जो लोग निगेटिव पाए जाएंगे उनमें यदि कोई लक्षण मिलता है तो उनका आरटीपीसीआर कराया जाएगा।” मंत्री ने कहा कि इससे सरकार को ग्रामीण इलाकों में संक्रमण का जल्दी पता लगाने में मदद मिलेगी।

स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी कहा कि राजस्थान सरकार ने केंद्र सरकार से बार-बार अपील की है कि राज्य को नजदीकी केंद्रों से अधिक ऑक्सीजन आवंटित की जाए। उन्होंने राज्य में 300 मीट्रिक टन ऑक्सीजन कमी बताते हुए कहा, ”केंद्र सरकार ने हमें उन जगहों से ऑक्सीजन का आवंटन किया है, जोकि राज्य से दूर हैं। परिवहन में काफी समय लग जाता है। इसलिए हमने सरकार से गुजारिश की है कि आसपास के इलाकों से ऑक्सीजन का आवंटन किया जाए।”