अगर छात्रों को रामायण पढ़ा सकते हैं तो कुरान क्यो नहीं? कांग्रेस विधायक का शिवराज सरकार से सवाल

मध्य प्रदेश में कांग्रेस के एक विधायक ने अपनी नई मांग से अब विवाद खड़ा कर दिया है। आरिफ मसूद ने अब सरकार से कहा है कि अगर रामायण और महाभारत राज्य में छात्रों के लिए पाठ्यक्रम का हिस्सा हैं तो अन्य धर्मों की धार्मिक पुस्तकों को भी शामिल करें। आरिफ मसूद आगे कहते हैं कि यह भारत का संविधान है और बाइबिल, कुरान और ग्रंथ सहित कोई भी धार्मिक पुस्तक नहीं छोड़ी जानी चाहिए।

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में अब सिलेबस को लेकर विवाद खड़ा हो गया है।  कांग्रेस विधायक के बयान पर अब बीजेपी सवाल उठा रही है।

आपको बता दें कि 13 सितंबर को मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा विभाग के मंत्री मोहन यादव ने घोषणा की थी कि नई शिक्षा नीति, 2020 के अनुसार, प्रथम वर्ष के स्नातक छात्रों के लिए रामायण, महाभारत और रामचरितमानस को इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा। फैसले का समर्थन करते हुए, यादव ने कहा था: “जो कोई भी भगवान राम के चरित्र और समकालीन कार्यों के बारे में सीखना चाहता है, वह इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में ऐसा कर सकता है।”

यादव ने कहा, “ये नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के दायरे में उठाए जा रहे कदम थे।” उच्च शिक्षा मंत्री ने आगे कहा: “हमारे अध्ययन बोर्ड के शिक्षकों ने एनईपी 2020 के तहत पाठ्यक्रम तैयार किया है। अगर हम अपने गौरवशाली इतिहास को आगे ला सकते हैं, तो किसी को इससे कोई समस्या नहीं होनी चाहिए।”

उन्होंने यह भी कहा था, “रामचरितमानस में विज्ञान, संस्कृति, साहित्य और श्रृंगार (भारतीय शास्त्रीय कला के रूप में प्रेम और सौंदर्य की अवधारणा) है। यह किसी धर्म विशेष के बारे में नहीं है। हमने उर्दू ग़ज़ल को भी एक विषय के रूप में पेश किया है।”