इंदौर में ऑटो रिक्शा चालक की ईमानदारी, सोने के गहनों वाला बैग मालिक को लौटाया

इंदौर के एक ऑटो रिक्शा चालक ने ईमानदारी की मिसाल पेश की है। उसने सोने के जेवरात वाला बैग उसके मालिक को लौटा दिया। पुलिस के एक अधिकारी ने शुक्रवार को इस बारे में जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि मुंबई से बस द्वारा गुरुवार को इंदौर आए रोहित विश्वकर्मा तीन इमली चौराहा पर मोहम्मद सलीम के ऑटो रिक्शा में सवार हुए। लेकिन उतरते वक्त वह अपना बैग इस तिपहिया वाहन में भूल गए।

डॉक्यूमेंट्स और दवाइयां भी थीं
रोहित ने बताया कि विश्वकर्मा के इस बैग में सोने के जेवरात के साथ जरूरी डॉक्यूमेंट्स और दवाइयां थीं। इसलिए वह दिन भर इस सामान को शहर के अलग-अलग स्थानों पर ढूंढते रहे। लेकिन तमाम कोशिश के बावजूद उन्हें इसका पता नहीं चल सका। पुलिस अधिकारी ने बताया कि ऑटो रिक्शा चालक मोहम्मद सलीम काम के बाद गुरुवार रात अपने घर लौटे। तभी उन्हें अपने वाहन में विश्वकर्मा का बैग मिला। इसे उन्होंने आजाद नगर के क्षेत्रीय थाने में जमा करा दिया।

बैग खोलकर देखा तक नहीं था
सलीम ने कहाकि मैंने बैग खोलकर तक नहीं देखा और सीधे पुलिस थाने जाकर इसे जमा करा दिया। चूंकि गुरुवार को मैंने कई सवारियों को उनकी मंजिल तक छोड़ा था। इसलिए मुझे याद नहीं आ रहा था कि यह बैग किस व्यक्ति का है। 50 वर्षीय ऑटो रिक्शा चालक ने कहा कि मैं बहुत खुश हूं कि आखिरकार बैग उसके मालिक के पास पहुंच गया है। अल्लाह मुझे ईमानदारी की राह पर चलाता रहे।