28 साल बाद खुले कश्मीर में ‘स्वर्ग’ के दरवाजे, अब आम लोगों को भी मिलेगा प्रवेश

श्रीनगर : बड़े-बड़े लोहे के दरवाजों के अंदर बैठे सीआरपीएफ  जवान। सामने स्क्रीन पर शाहिद कपूर अपनी बाइक पर आता है और श्रद्धा कपूर को लुभाने का प्रयास करता है। जोर-जोर से सीटियां बजने लगती हैं। यह सीन था आतंकवाद का गढ़ माने जाने वाले दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग स्थित सिनेमा हॉल का। हैवन नाम का यह सिनेमा हॉल लगभग 28 साल के बाद खोला गया, जिसमें शाहिद कपूर की फिल्म बत्ती गुल मीटर चालू और जेपी दत्ता की चर्चित फिल्म पलटन चलाई गई।

घाटी के सबसे संवेदनशीन इलाकों में से एक अनंतनाग का हैवन सिनेमा हॉल 6 मार्च को खोला गया। इस हॉल के 70 एमएस स्क्रीन पर सीआरपीएफ  हेडक्वॉर्टर के 40 बटालियन सैन्यकर्मियों ने फिल्म देखी। कश्मीर के हालात को देखते हुए एक सिनेमाघर का खुलना और उसमें फिल्म चलना बहुत बड़ी बात माना जा रहा है।  एक स्थानीय व्यवसायी की यह कमर्शल बिल्डिंग थी। इसमें उन्होंने 1989 में सिनेमा हॉल हैवन खोला था। सिनेमा हॉल खुलने के दो साल बाद ही यहां एक ग्रेनेड हमला हुआ थाए जिसके बाद इसे बंद कर दिया गया था। बताया जाता है कि सिनेमा हॉल बंद करने के लिए अल्लाह टाइगर नाम के आतंकी संगठन ने धमकी दी थी। उनका कहना था कि यह इस्लाम के खिलाफ  है।

कश्मीर के नाम पर रखा थ थियेटर का नाम
सीआरपीएफ  40 बटालियन के कमांडेंट आशू शुक्ला ने कहा कि थिअटर्स के लिए यह भावुकता वाला क्षण है। हैवन कश्मीर का पर्यायवाची शब्द है और इसी को ध्यान में रखते हुए हॉल के मालिकों ने इसका नाम हैवन रखा था। यह बहुत ही शर्मनाक बात है कि हम फिल्म देखने के लिए दिल्ली जाते थे। हम लोगों ने दरवाजे साफ किए। लाइटिंग सिस्टम ठीक किया। टिकट विंडो पेंट किया। फिल्म बत्ती गुल मीटर चालू का पोस्टर लगाया और 28 साल बाद इस पहली फिल्म का प्रदर्शन हुआ। यह फिल्म यहां हिट हुई।

अमिताभ की कालिया थी आखिरी फिल्म 
आखिरी बार यहां 1991 में फिल्म का प्रदर्शन हुआ था। यह फिल्म थी अमिताभ बच्चन की कालिया। हॉल में 525 सीटें हैं। सीआरपीएफ ने कहा कि अब वे प्रयास कर रहे हैं कि जल्द ही इस स्क्रीन को पब्लिक के लिए खोल दिया जाए। कश्मीर में कई ऐसे युवा हैंए जिन्होंने कभी सिनेमा हॉल नहीं देखा है।

कम रेट पर रखी जाएंगी टिकटें
सीआरपीएफ ने कहा कि हॉल पब्लिक के लिए खोला जाएगा और टिकट भी बहुत कम रेट पर रखी जाएंगी। योजना है कि टिकट की कीमत 30 से 50 रुपये के बीच रखी जाएं। फिल्म देखने वाले खलील ने कहा कि वह बहुत खुश हैं। उन्होंने हॉल में पलटन और बत्ती गुल मीटर चालू फिल्म दो बार यहां आकर देखी।