भोपाल में अशोक मिज़ाज को “आज का शायर”के ख़िताब से नवाजा

शिरीष सिलकारी 

सागर | भोपाल में आयोजित “एक शाम अशोक मिज़ाज बद्र के नाम” कार्यक्रम में मिज़ाज को “आज का शायर” के ख़िताब से नवाजा गया। ख़ुशबू कल्चरल एन्ड एजुकेशनल सोसायटी भोपाल द्वारा स्वराज भवन में आयोजित कार्यक्रम में अशोक मिज़ाज की तीन किताबें ”में अशोक हूँ, में मिज़ाज भी,अशोक मिज़ाज की चुनिंदा ग़ज़लें और समन्दर आज भी चुप है का लोकार्पण किया गया।पुस्तकों पर चर्चा करते हुए उस्ताद शायर जनाब ज़फर सहबाई ने कहा कि जो ग़ज़ल को जानते हैं वो अशोक मिज़ाज को भी जानते हैं,वो हिंदी और उर्दू में बराबरी से मक़बूल हैं।अहद प्रकाश, नुसरत मेहदी सचिव उर्दू अकादमी ने कहा कि मिज़ाज की शायरी उनकी तरह सच्ची और अच्छी है,वो जो जीते हैं वही लिखते भी हैं।