बनेठा में करोड़ों खर्च, फिर भी पानी को तरसे, अब बीसलपुर बांध से आस

गणेश योगी 

उपतहसील मुख्यालय सहित आधा दर्जन से अधिक गांवों में पेयजल उपलब्ध कराने के लिए सन 2011 में एक करोड़ 70 लाख रुपए स्वीकृत कर धरातल पर लाई गई।

जलदाय विभाग के अधिकारियो और ठेकेदार ने शिलान्यास कराने के बाद योजना को पूरा भी किया मगर इसे दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि आज तक ग्रामीणों को पीने का पानी नसीब नहीं हो सका। एक दर्जन गांवों में पेयजल संकट को देखते हुए गत वर्ष बीसलपुर बांध से पेयजल हेतु पाइपलाइन बिछाकर गांव- गांव में पांइट बना, गए पंरतु बीसलपुर बांध में पानी की कमी के चलते इस वर्ष भी गांवो में पेयजल संकट का सामना करना पड़ेगा।

तत्कालीन विधायक एंव विधानसभा उपाध्यक्ष राम नारायण मीणा ने बनेठा क्षेत्र के रूपपुरा, श्रीपुरा, फत्तेहगंज, रमजानगंज, मीणों की झौपडिया, सरदारपुरा सहित कई गांवो में ग्रामीणो को पेयजल संकट को दूर करने के लिए अक्टूबर 2011 में 1.70 करोड रुपए की योजना स्वीकृत की गई थी। इस योजना में ईसरदा कापर डेम के समीप कुओं का निर्माण कर रूपपुरा मार्ग पर उच्च जलाशय टंकी का निर्माण कराया गया था। मगर घटिया पाइपलाइन के कारण अब तक भी इस योजना का पानी नहीं पहुंच पाया है।

जलदाय विभाग के अधिकारियों द्वारा अब बीसलपुर बांध से पेयजल पहुंचाने के लिए गांवों में पाइपलाइन बिछाकर गांव-गांव में पांइट बनाए गए हैं। मगर वो पानी के इंतजार में सूखे पड़े हुए हैं। कार्यवाहक कनिष्ठ अभियंता आकाश दीप गुर्जर ने बताया कि जलदाय विभाग पेयजल उपलब्ध कराया जा रहा है। विभाग की ओर से अप्रैल में पानी पहुंचाने के प्रयास किए जा रहे हैं। लोगों को पीने के पानी का संकट नहीं होगा।