नाक में ड्रिप, बीमार शरीर, फिर भी पर्रिकर का जोश हमेशा हाई रहा

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार को 63 वर्ष की उम्र में निजी आवास पर निधन हो गया। पर्रिकर एडवांस्ड पैक्रियाटिक कैंसर से जूझ रहे थे। पर्रिकर की जिंदगी जोश और जज्बे से भरी थी। वह बेहद सरल स्वभाव के नेता रहे। उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में पूरे समर्पण के साथ जनता की सेवा की। बीमारी के बावजूद उनका जोश के साथ काम करना सभी के लिए प्रेरणादायक रहा।

पर्रिकर की बहादुरी, जोश और जज्बेका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जनवरी में बीमारी की हात में उन्होंने विधानसभा में राज्य का बजट पेश किया था। इस दौरान उनकी नाक में ट्यूब डली हुई थी। इसके अलावा बीमारी की हालत में ही पर्रिकर ने एक सार्वजनिक कार्यक्रम में शिरकत करते हुए ‘उरी’ फिल्म  का डायलॉग बोलते हुए पूछा था, ‘हाउज द जोश’। उनके कहने के बाद फिल्म का यह डायलॉग सोशल मीडिया पर काफी ट्रेंड हुआ था।

उस दौरान पर्रिकर ने एक सुर में तीन बार ‘हाउज द जोश’ बोला और कहा, मैं अपना जोश आप लोगों में भरता हूं। यहां बैठकर कुछ बोलना चाहता हूं। इसके बाद फिल्म का यह संवाद प्रधानमंत्री समेत कई नेताओं में खासा लोकप्रिय हो गया।

सबसे पहले मनोहर पर्रिकर एक पुल के निरीक्षण के दौरान लंबे समय बाद नजर आए थे। इससे पहले वह अपनी बीमारी का इलाज कराकर भारत वापस लौटे थे, जिसके बाद उन्होंने अपना कामकाज संभाला था। उनका मुंबई, दिल्ली के एम्स अस्पताल में भी इलाज चला था। गौरतलब है कि मनोहर परिकर ने 14 मार्च 2017 को गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। इससे पहले वह मोदी सरकार में रक्षा मंत्री रहे। वह चार बार गोवा के मुख्यमंत्री रहे।