‘मेहुल चोकसी’ ने PM मोदी पर की PHD, 9 साल में पूरा किया रिसर्च

सूरतः मेहुल चोकसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अपनी पीएचडी पूरी कर ली है। चोकसी ने करीब नौ साल में भारतीय पीएम पर अपनी रिसर्च पूरी की है। मेहुल चोकसी वो व्यापारी नहीं है जो भगोड़े होने की वजह से चर्चाओं में है। यह मेहुल चोकसी गुजरात के सूरत शहर का रहने वाला एक छात्र है। इसने मोदी पर रिसर्च पीएचडी थीसिस पूरी की है। मोदी पर रिसर्च करने के साथ ही चोकसी अपने नाम को लेकर चर्चा में है

राजनीतिक विज्ञान में मास्टर्स करने वाले चौकसी वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय में आगे की पढ़ाई कर रहे हैं और इसके साथ ही उन्होंने “लीडरशिप अंडर गवर्मेंट-केस स्टडी ऑफ नरेंद्र मोदी” नाम के शीर्षक पर रिसर्च की। चोकसी एक वकील भी हैं।

चोकसी ने कहा कि उसने अपने रिसर्च के लिए एक सर्वे भी किया। इस सर्वे में उसने मोदी के नेतृत्व की गुणवत्ता के बारे में जानने के लिए सरकारी अधिकारियों, किसानों, छात्रों और राजनीतिक नेताओं समेत 450 लोगों से मुलाकात की और उनसे पीएम को लेकर कई सवाल पूछे। उसने 450 लोगों से पीएम मोदी पर करीब 32 सवाल पूछे। चोकसी ने कहा कि 450 लोगों के जवाबों से यह पता चला कि 25 प्रतिशत लोग मोदी के भाषण सबसे अधिक आकर्षित हुए जबकि 48 प्रतिशत ने कहा कि पीएम राजनीतिक मार्केटिंग सबसे अच्छी करते हैं। उन्होंने अपनी यूनिवर्सिटी के कला विभाग के नीलेश जोशी के मार्गदर्शन में अपनी पीएचडी पूरी की।

उल्लेखनीय है कि चोकसी ने अपनी पीएचडी उस वक्त शुरू की थी जब मोदी साल 2010 में गुजरात के मुख्यमंत्री थे। चोकसी ने कहा कि 81 फीसदी लोग सोचते हैं कि देश के प्रधानमंत्री का सकारात्मक होना महत्वपूर्ण है जो कि मोदी हैं।