गर्भवती नाबालिग ने आग लगाकर किया खुदकुशी का प्रयास

सिलीगुड़ी,  चंपासारी निवासी भारती जायसवाल का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा था कि नक्सलबाड़ी के रायपाड़ा क्षेत्र में एक नेता से प्रताड़ित होने से एक गर्भवती नाबालिग ने स्वयं को आग के हवाले कर दिया। रविवार को वह सेवक रोड़ स्थित एक नर्सिग होम में जिंदगी-मौत के बीच जूझ रही है।

उसकी दशा गंभीर बनी हुई है। अंतर सिर्फ यह है कि भारती जायसवाल पुलिस से प्रताड़ित होकर अपने शरीर में आग लगा ली थी। इलाज के दौरान उसे चिकित्सक नहीं बचा पाए। इस घटना में पुलिस नहीं बल्कि सत्तारूढ़ दल का एक युवा नेता आरोपित है।

राजनीतिक सरगर्मी तेज : इस घटना के बाद राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है। रविवार को पीड़िता की मां ने आरोपित युवा नेता और उसके परिवार के खिलाफ मामला दर्ज कराया। इस घटना को लेकर माकपा और भाजपा की ओर से अविलंब आरोपित को गिरफ्तार करने की मांग की है। माकपा की ओर से गौतम घोष और राधा गोविंद तथा भाजपा की ओर से दिलीप बड़ाई, भाजयुमो के अभिजीत पाल, राज कमल सरकार,महिला मोर्चा की प्रियंका पाल, पम्पी दास तथा पंकज घोष ने भारती जायसवाल व नाबालिग किशोरी के साथ घटित घटना की तीव्र निंदा करते हुए कहा कि इस प्रकार की घटना के दोषी चाहे कितना बड़ा भी क्यों न हो उसपर कार्रवाई होनी चाहिए।