AAP से गठबंधन पर कांग्रेस में छिड़ा ‘लेटर वॉर’, शीला के बाद माकन गुट ने राहुल को लिखा खत

नई दिल्ली: दिल्ली में आम आदमी पार्टी के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन को लेकर कांग्रेस में आंतरिक कलह की खबर है। कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने आप से गठबंधन के खिलाफ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को सोमवार को खत लिखा था। वहीं अब अजय माकन के गुट ने राहुल को खत लिखकर आप के साथ गठबंधन करने को कहा और इस पर अपना नजरिया रखा। दिल्ली कांग्रेस के प्रभारी पीसी चाको आप से गठबंधन के समर्थन में हैं। आप से गठबंधन हो न हो इस पर अंतिम फैसला राहुल ही लेंगे लेकिन इस समय वे दो धड़ों के बीच बंटे हुए हैं।

शीला ने जताया विरोध
राहुल को लिखे गए पत्र में शीला दीक्षित और कार्यकारी अध्यक्ष हारून यूसुफ, दवेंद्र यादव और राजेश लिलोठिया ने गठबंधन पर कार्यकर्त्ताओं का मूड जानने के लिए फोन सर्वेक्षण पर विरोध जताया है। दिल्ली कांग्रेस के एक नेता ने बताया कि दीक्षित और कार्यकारी अध्यक्षों ने कांग्रेस प्रमुख से गुजारिश की है कि वह ‘आप’ से गठबंधन नहीं करें क्योंकि यह दीर्घकाल में पार्टी को नुकसान पहुंचाएगा। नेता ने कहा कि उन्होंने पार्टी की शक्ति ऐप्प के जरिए किए गए फोन सर्वेक्षण पर भी ऐतराज जताया है। यह सर्वेक्षण दिल्ली कांग्रेस के एआईसीसी प्रभारी पीसी चाको ने कराया है। सर्वेक्षण में दिल्ली कांग्रेस के करीब 52,000 कार्यकर्त्ताओं की राय मांगी गई थी कि क्या पार्टी को आप से गठबंधन करना चाहिए या नहीं।

आप से गठबंधन के समर्थन में ये नेता
कांग्रेस के कुछ पूर्व अध्यक्षों ने मिलकर राहुल को इस संबंध में पत्र भी लिखा है। सूत्रों के अनुसार, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन, ताजदार बाबर, अरविंदर सिंह लवली और सुभाष चोपड़ा ने राहुल को गठबंधन के लिए हामी भरी है। चाको ने कहा कि पार्टी के कई सीनियर नेताओं को लगता है कि पार्टी की मुख्य जिम्मेदारी इस समय भाजपा को हराना है। चाको ने कहा कि ज्यादातर नेताओं को लगता है कि आप के साथ गठबंधन होना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल भी कांग्रेस के साथ हाथ मिलाने को लेकर काफी उतावले हैं। केजरीवाल सार्वजनिक तौर पर कह चुके हैं कि अगर भाजपा को हराना है तो कांग्रेस और आप का गठबंधन होना चाहिए।