महिलाओं को सम्मान मिले, इसलिए औरतों के कपड़े पहनकर चलाते हैं बस

झुंझुनूं. खेतड़ी कॉपर से बीकानेर के बीच चलने वाली लोक परिवहन की एक बस के इस चालक को देख कर कोई भी चौंक सकता है, लेकिन घरड़ाना निवासी नरेश औरतों के प्रति लोगों के मन में सम्मान जगाने के लिए होली से दो दिन पहले एक दिन के लिए औरत के वेश में बस चलाते हैं। नरेश ने पिछले साल से ही ऐसा करना शुरू किया है। सोमवार को खेतड़ी कॉपर से रवाना होकर झुंझुनूं के मंडावा मोड़ सर्किल पर कुछ देर के लिए रुके तो वहां लोग उन्हें कौतूहल से देखने लगे।

एक साल पहले मारवाड़ में घूंघट में बस चलाती महिला का वीडियो हुआ था वायरल

करीब एक साल पहले मारवाड़ में भी ऐसा मामला सामने आया था। जब मारवाड़ी ड्रेस में घूंघट निकाल कर एक महिला बस चलाते हुए नजर आ रही है। यह महिला बड़ी तेजी के साथ बस को भगा रही है। जिसका वीडियो काफी वायरल हुआ था। घूंघट निकाल किसी महिला को पहली बार बस चलाते देख लोग चौंक उठे। इस वीडियो की सच्चाई पता कि तो अलग ही माजरा सामने आया। कुचामन सिटी निवासी सांवरलाल मकराना-बिदासर के बीच एक निजी बस का चालक है। वह इस रूट पर रोज बस लेकर चलता है। होली के मौके पर उसे अपनी सवारियों के साथ मजाक करने की सूझी और उसने अपना रूप बदल लिया था।