चल रहा था कोयले का अवैध कारोबार, छापा मारकर पुलिस ने बरामद किया 62 लाख का माल

निताबेनिबॉगडे 

नागपुर। नागपुर शहर में कोयला कालाबाजारी का बड़े पैमाने पर कारोबार फैला हुआ है। यहां से विदर्भ में कई स्थानों पर अवैध तरीके से कोयला भेजा जाता है।  शहर की अपराध शाखा पुलिस ने कलमना क्षेत्र में एक ठिकाने पर छापा मारा। मौके से 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तारी से कोयला माफियाओं में हड़कंप मचा हुआ है। मामले की गहन जांच किए जाने पर कोयला का सबसे बड़ा खुलासा हो सकता है। इसमें कई सफेदपोश भी बेनकाब हो सकते हैं। पुलिस ने आरोपियों से चार ट्रक, 80.50 टन कोयला सहित करीब 62 लाख 62 हजार रुपए का माल जब्त किया है। अपराध शाखा पुलिस फरार कोयला माफिया रामनारायण ठाकुर की तलाश कर रही है।

डीबी स्क्वॉड को सब पता है
सूत्र बताते हैं कि रामनारायण ठाकुर का कलमना क्षेत्र के चिखली परिसर में उड़ानपुल के पास कोयला खदानों से आने वाला माल उतारा जाता है। यह जगह उसका खास ठिकाना है, जिसके बारे में अपराध शाखा पुलिस की यूनिट को भले जानकारी न हो, लेकिन कलमना थाने का डीबी स्क्वॉड इससे अनभिज्ञ नहीं है। अपराध शाखा पुलिस विभाग के उपायुक्त नीलेश भरणे को गुप्त सूचना मिली कि कापसी क्षेत्र में अवैध कोयले का कारोबार चल रहा है। उन्होंने सहयोगियों के साथ जयभोले धरमकांटा भंडारा रोड, पाल पेट्रोल पंप के पीछे कापसी परिसर में ठाकुर के एक ठिकाने पर छापा मारा।

इन ट्रकों को पकड़ा गया
पुलिस के अनुसार उपायुक्त नीलेश भरणे व यूनिट 5 के अधिकारियों, कर्मचारियों ने कापसी क्षेत्र में रामनारायण ठाकुर के कोयला के ठिकाने पर छापा मारा। यहां पर कोयला लेकर आए ट्रक चालक अजहर शेख इनायत शेख (26) टेकाड़ी इंदर कॉलोनी खदान कन्हान, नसीम शेख रहातुल्ला शेख (39) दहेगांव खापरखेड़ा, मंगेश धरमराज ठवरे (26) हनुमान नगर टेकाड़ी कन्हान, रामबहोर द्वारका प्रसाद चौधरी (30) जरी बाजार इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश, रामचंद्र अंकुश मानकर (41) सरस्वती नगर दिघोरी बहादुरा और उदय शंकर सिंह (48) निवृत्ति नगर कलमना निवासी को धर-दबोचा। मौका देख कर इस कोयला ठिकाने का मालिक रामनारायण ठाकुर फरार हो गया। पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ कलमना थाने में मामला दर्ज किया गया है।

ठिकाने से पुलिस को ट्रक क्रमांक एमएच 46 बीबी- 1821 से 30.47 टन कोयला गोंडेगांव कन्हान खदान से लादकर इंडोरामा कंपनी बुटीबोरी के लिए निकला था। ट्रक क्रमांक एमएच 29 टी-0221 से 21.40 टन माल गोंडेगांव कन्हान खदान से लादकर नरसिंगपुर के लिए निकला था। ट्रक क्रमांक एमएच 34 ए बी-2220 से 26.36 टन कोयला लेकर इंदर माइन कन्हान से धरमपेठ में लेकर जाना था, लेकिन यह ट्रक कापसी में खड़ा मिला। ट्रक क्रमांक यूपी 70 बीटी- 6810 जब्त किया गया, इसमें माल लादा जा रहा था। पुलिस ने इन ट्रकों से करीब 4 लाख 2 हजार रुपए का कोयला जब्त किया।

महंगे दाम पर बेचते थे
आरोपी रामचंद्र मानकर, उदय सिंह और रामनारायण ठाकुर ट्रक चालकों से माल अपने यहां मंगाते थे। ट्रक से अच्छी क्वालिटी का कोयला उतारकर उसमें पत्थर वाले कोयले भरकर खापरखेड़ा, कोराडी, बुटीबाेरी व एमआईडीसी की कंपनियों में भेजा जाता था। इन ट्रकों के चालक कोयला लादने के बाद संबंधित कंपनियों में ले जाने के बजाय वह कोयला लेकर इस जगह पर आ जाते थे, जहां मिलावट की जाती थी। अच्छी क्वालिटी के कोयले महंगे दामों पर बेचते थे। इस ठिकाने पर कई गोदामनुमा कमरे बने हैं। वहां पर भी माल छिपाकर रखा जाता था।

एनटीपीसी को भी भेजते थे मिलावटी कोयला
सूत्रों ने बताया कि कोयले का यह अवैध कारोबार काफी गहराई तक फैला है। ये आरोपी एनटीपीसी में भी मिलावटी कोयला भेजते थे। सूत्र बताते हैं कि रामनारायण ठाकुर ने सूर्य नगर के कैलास नामक कारोबारी पर जानलेवा हमला किया था। वह कुछ बदमाशों को पाल रखा है। जरूरत पड़ने पर उनकी मदद लेता है। रामनारायण के पकड़े जाने पर कोयले के अवैध कारोबार का पूरा सच सामने आ सकता है। ठाकुर का कई पुलिसकर्मियों से मधुर संबंध हैं। इनमें से कुछ पुलिसकर्मियों को हाल ही में पुलिस आयुक्त ने ड्रग्स माफिया आबू से संबंध होने व उसका सहयोग करने में लिप्त पाए जाने पर निलंबित कर दिया है। गणेशपेठ थाने का मधु नामक पुलिसकर्मी का कोयला माफिया के साथ मधुर संबंध है। कलमना थाने से गणेशपेठ थाने में तबादला होने के बाद भी वह ठाकुर के ठिकाने पर अक्सर देखा जाता है।