मोदी की पाटीदार पाॅलीटिक्स: नरेश पटेल-सी. के. पटेल को मैदान में उतारने की तैयारी

जितेन्द्र वर्मा

अहमदाबाद. पूरे गुजरात में एक करोड़ से भी अधिक पाटीदार वोट होने के कारण भाजपा-कांग्रेस दोनों ही लोकप्रिय पाटीदार नेताओं को टिकट देने का मन बना लिया है। इसी के चलते भाजपा की तरफ से नरेश पटेल और सी के पटेल को मैदान में उतारने की तैयारी चल रही है।

2015 के बाद विमुख हुए लोगों को मनाने की तैयारी
2015 के बाद अधिकांश पाटीदार भाजपा से नाराज हो गए हैं। इसलिए भाजपा ने सौराष्ट्र से खोडलधाम के प्रणेता नरेश पटेल और उत्तर गुजरात से विश्व उमियाधाम के प्रणेता सी के पटेल को चुनाव लड़ाने की कोशिशें शुरू कर दी हैं। लेऊवा और कड़वा गुट में विभाजित पाटीदारों की संख्या के अनुसार सौराष्ट्र और उत्तर गुजरात में पटेल वोट को प्राप्त करने के लिए भाजपा ने नई रणनीति अपनाई है।

पाटीदार आंदोलन के बाद की नाराजगी
2014 में गुजरात से नरेंद्र मोदी की विदाई के बाद उनकी अनुगामी की रूप में आई आनंदी बेन पटेल और विजय रूपाणी के शासन में पाटीदार आरक्षण आंदोलन शुरू हुआ। इस दौरान कई ऐसे किस्से सामने आए, जिससे यह समाज भाजपा विरोधी हो गया। इसका सीधा असर स्थानीय निकाय के चुनावों में भी देखा गया। इसके अलावा 2017 के विधानसभा चुनाव में भी भाजपा को पाटीदार वोट अपेक्षा से कम मिले। इस तरह से भाजपा के प्रति पाटीदारों की नाराजगी सामने आई।

सी के पटेल और नरेश पटेल को लेकर खुद मोदी भी सक्रिय
गुजरात की 26 में से 10 सीटों पर पाटीदारों का प्रभुत्व होने के कारण इन सीटों पर भाजपा अपना कब्जा जमाना चाहती है, इसके लिए इस बार नई रणनीति तैयार की गई है। इसके अनुसार लेऊवा पाटीदार समाज के नेता नरेश पटेल और कड़वा समाज के नेता सी के पटेल भाजपा से अधिक पीएम नरेंद्र मोदी के करीबी हैं। इसलिए इन्हें चुनावी मैदान में उतारने के लिए मोदी स्वयं सक्रिय हैं। ये दोनों नेता भाजपा की नैया का पार लगा सकने में सक्षम हैं।

नरेश पटेल की नाराजगी
इसके पहले सौराष्ट्र में लेऊवा पटेल समाज के खोडलधाम के कार्यक्रम के उद्घाटन के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को बुलाया गया था। परंतु खोडलधाम के नेता चाहते थे कि खोडलधाम के उद्घाटन में केवल पाटीदार ही हों, ऐसे ही नेताओं को निमंत्रण दिया जाए। इसलिए नरेंद्र मोदी को बुलाने का सपना पूरा नहीं हो पाया। इस मुद्दे पर तब नरेश पटेल ने खोडलधाम के ट्रस्ट से इस्तीफा भी दे दिया था।

उमियाधाम के कार्यक्रम में पीएम की हाजिरी
विश्व उमियाधाम के प्रणेता सी के पटेल भाजपा के नेता हैं। इससे उन्होंने लोकसभा चुनाव के पहले उमियाधाम के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बुलाने के लिए कई प्रयास किए थे। ये प्रयास सफल भी हुए। इसके आधार पर अब आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा से सी के पटेल की टिकट लगभग तय हो गई है।