सात दशक में लोकसभा में महिलाओं की हिस्सेदारी करीब 7% बढ़ी, वैश्विक औसत से अभी भी पीछे

नई दिल्ली: पहली लोकसभा में महिलाओं सांसदों की संख्या सदन की कुल सदस्य संख्या का 4.4 प्रतिशत थी जो 2014 में बढ़कर करीब 11 प्रतिशत हो गई। हालांकि यह अभी भी वैश्विक औसत 20 प्रतिशत से काफी कम है। पहली लोकसभा में निर्वाचित सदस्यों की कुल संख्या 489 थी जबकि 16वीं लोकसभा में कुल सदस्य संख्या 543 थी।

अब तक के सभी लोकसभा चुनाव परिणामों पर गौर करें तो महिला सदस्यों की संख्या सदन की कुल सदस्य संख्या के 3.4 प्रतिशत से 11.2 प्रतिशत के बीच रही है। पहले आम चुनाव के बाद गठित पहली लोकसभा से लेकर 16वीं लोकसभा तक महिला सांसदों की संख्या 19 से 62 के बीच रही है। जहां पहली लोकसभा में 22 महिलाएं जीतकर आई थी वहीं, 1977 में छठी लोकसभा में सबसे कम 19 महिलाएं (3.4 फीसदी) जीती। पिछले लोकसभा चुनाव के बाद गठित 16वीं लोकसभा में महिला उम्मीदवारों की संख्या 62 (करीब 11 प्रतिशत) रही।

राजनीतिक दलों के बड़े-बड़े वादों के बावजूद पहली लोकसभा से लेकर अब तक सदन में महिलाओं की मौजूदगी निराशाजनक रही है। हालांकि इस बार ओडिशा में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार के रूप में महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण की घोषणा की है। पश्चिम बंगाल में तृणमूल प्रमुख एवं राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लोकसभा उम्मीदवारों की सूची जारी करते हुए कहा है कि इस सूची में 40.5 प्रतिशत उम्मीदवार महिलाएं हैं तथा सूची में 17 महिला उम्मीदवारों के नाम हैं। पार्टी ने पिछले चुनावों की तुलना में पांच ज्यादा महिलाओं को प्रत्याशी बनाया है।

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि बीजद और तृणमूल कांग्रेस की इस पहल के कारण भाजपा, कांग्रेस, वामदल सहित प्रमुख दलों पर आसन्न लोकसभा चुनाव में महिला उम्मीदवारों को अधिक संख्या में टिकट देने का दबाव बढ़ गया है । पहली लोकसभा में 22 महिलाएं जीती थी जो सदन की कुल संख्या का 4.4 प्रतिशत थी । 1957 में दूसरी लोकसभा में 27 महिलाएं चुनकर आई थी जो कुल संख्या का 5.4 प्रतिशत थी , वहीं 1962 में तीसरी लोकसभा में 34 महिलाएं जीत कर आई जो 6.7 प्रतिशत थी । चौथी लोकसभा में 31 महिलाएं (5.9 प्रतिशत) जीत कर आई तो पांचवी लोकसभा में 22 महिला सदस्यों (4.2 फीसदी) ने जीत दर्ज की।

वहीं, छठी लोकसभा में 19 महिलाएं (3.4 फीसदी), सातवीं लोकसभा में 28 महिलाएं (5.1 प्रतिशत), आठवीं लोकसभा में 44 महिलाएं (8.11 फीसदी), नौवीं लोकसभा में 28 महिला सांसद (5.3 प्रतिशत) जबकि दसवीं लोकसभा में 36 महिलाएं (7 प्रतिशत) सांसद चुनकर आई। 11वीं लोकसभा में 40 महिलाएं जीतकर आई जो संख्याबल का 7.4 प्रतिशत थी तो 12वीं लोकसभा में 44 महिलाएं (8 प्रतिशत) आई। 13वीं लोकसभा में 48 महिलाएं चुनकर आई जो कुल संख्याबल का 8.8 प्रतिशत थी जबकि 14वीं लोकसभा में 45 महिलाएं चुनकर आई जो 8.1 प्रतिशत थी। 15वीं लोकसभा में 59 महिलाएं चुनकर आई जो 10.9 प्रतिशत थी, वहीं 16वीं लोकसभा में महिला सांसदों की संख्या 62 है जो संख्याबल का करीब 11 प्रतिशत है ।