छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने वाहन को IED से उड़ाया, 9 घायल

पार्थो चक्रवर्ती 

छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में होली के अवसर पर नक्सलियों ने आम नागरिकों को निशाना बनाया है. बुधवार को बीजापुर जिले में नक्सलियों ने आम नागरिकों के एक वाहन को आईईडी विस्फोट करके उड़ा दिया. इस धमाके में 9 लोग घायल हो गए. छत्तीसगढ़ पुलिस ने इस घटना की जानकारी दी. पुलिस के मुताबिक इस धमाके में घायल हुए 9 लोगों में से एक की हालत नाजुक बनी हुई है.

पुलिस उप-महानिरीक्षक (नक्सल विरोधी अभियान) सुंदरराज पी ने समाचार एजेंसी भाषा को बताया कि यह घटना बुधवार शाम 7 बजकर 45 मिनट पर ब्लैक टॉप रोड पर पेड्डाकोदेपाल और नामेड गांव में हुई. बताया जा रहा है कि सभी पीड़ित एक मेला देखने के लिए दंतेवाड़ा जिला जा रहे थे, तभी नक्सलियों ने इनको निशाना बनाया.

इस हमले की जानकारी मिलने के बाद पुलिस टीम घटनास्थल पर पहुंची और घायलों को एक अस्पताल में भर्ती कराया. पुलिस उप-महानिरीक्षक ने बताया कि वाहन के चालक 37 वर्षीय राजाराम की हालत नाजुक है. वहीं, इस धमाके के बाद पुलिस ने इलाके में तलाशी अभियान शुरू कर दिया है. फिलहाल इस मामले में किसी की गिरफ्तारी की जानकारी नहीं है.

पुलिस आशंका जाहिर कर रही है कि नक्सलियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाने की साजिश रची थी, लेकिन गलती से आम नागरिकों के वाहन पर हमला हो गया. आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव को लेकर क्षेत्र में सुरक्षाबलों की गतिविधि बढ़ गई है. छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव के लिए पहले, दूसरे और तीसरे चरण में मतदान होना है. यहां पर 11 अप्रैल को पहले चरण, 18 अप्रैल को दूसरे चरण और 23 अप्रैल को तीसरे चरण की वोटिंग होगी.

चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर चाकचौबंद सुरक्षा व्यवस्था की है. छत्तीसगढ़ में चुनाव को लेकर सियासी घमासान भी जारी है. सूबे में लोकसभा की 11 सीटें हैं, जिन पर सभी राजनीतिक दल अपने उम्मीदवारों का ऐलान भी कर रहे हैं.केंद्र की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने छत्तीसगढ़ में किसी भी मौजूदा सांसद को टिकट नहीं देने का फैसला किया है. पार्टी का कहना है कि वह नए चेहरों को मौका देने के लिए किसी भी मौजूदा सांसद को टिकट नहीं देगी. हालांकि माना जा रहा है कि पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में करारी हार मिलने के बाद बीजेपी ने अपने मौजूदा सांसदों को टिकट नहीं देने का ऐलान किया है. पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने छत्तीसगढ़ में लोकसभा की 10 सीटों पर जीत दर्ज की थी.