मेले की चमक फीकी पडी

बौंली (अजयशेखर शर्मा)
बौंली— सवाई माधोपुर जिले के बौंली उपखंड मुख्यालय पर प्रतिवर्ष होली के बाद दोज से लगने वाले तीन दिवसीय फूलडोल मेले की शुक्रवार से राम शाला चौक में विधिवत शुरुआत हो गई, हालांकि चौक में मेले की शुरुआत हो गई लेकिन समय के थपेड़ों के साथ अब यह मेला अपनी आभा होता जा रहा है। वर्ष -प्रतिवर्ष मेला स्थल के सिकुड़ने व बाहर से आने वाले दुकानदारों के लिए पंचायत प्रशासन द्वारा किसी प्रकार की विशेष सुख सुविधाएं मुहैया नहीं कराने से यह मेला अब मात्र औपचारिक बनकर रह रहा है। हालांकि मेले में शुक्रवार को जहां महिलाओं ने मिट्टी से बने घरेलू उपयोग के बर्तन व सौंदर्य प्रसाधन सामग्री की खरीदारी की वहीं बच्चों ने चकरी झूलों में झूल आनंद लिया व चाट ,पकौड़ी, पतासी का लुफ्त उठाया । गौरतलब है कि मुख्यालय के रामशाला चौक में वर्षों से फूलडोल का मेला पंचायत प्रशासन के सानिध्य में आयोजित होता आ रहा है तथा यह मेला क्षेत्र के ग्रामीणों के लिए खासा महत्व रखता है। इस मेले से विशेष तौर पर ग्रामीण महिलाएं मिट्टी से बने घरेलू उपयोगी बर्तन, फर्नीचर, लोहे से बने घरेलू उपयोगी सामान व अपनी सौंदर्य प्रसाधन सामग्री की अगले वर्ष मेले के आने तक के लिए खरीददारी करती है। ग्रामीण अंचल से आने वाली महिलाओं के लिए यह मेला विशेष महत्व रखता है तथा वे होली के बाद लगने वाले इस मेले की बाट जोहती रहती है लेकिन वर्षों से पंचायत प्रशासन द्वारा इस बारहमासी मेले की ओर ध्यान नहीं देने से यह अब केवल औपचारिक बनकर रह रहा है। जबकि ग्रामीण अंचल के लोग इस मेले की बेसब्री से इंतजार करते हैं ।ग्रामीणों का कहना है कि पंचायत प्रशासन को इस मेले में आकर्षण पैदा करने के लिए अभिनव नवाचार के प्रयास करने चाहिए ताकि मेलों की जीवंतता बनी रहे खासतौर पर मुख्यालय पर लगने वाले इस बारह मासी मेले का वजूद बना रहे सके।
फोटो वीडियो