दंबग विधायक रामबाई का छलका दर्द, कहा- मेरे पति बेकसूर हैं

दमोह: कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड का मामला दिनप्रतिदिन लंबा खिंचता चला जा रहा है। हालांकि घटना एक सप्ताह पहले की है लेकिन पुलिस के हाथ अभी तक खाली के खाली है। हालांकि पुलिस ने आरोपियों पर इनाम की राशि बढ़ा दी है। वहीं अपनी दंबग छवि के लिए हमेशा सुर्खियों में रहने वाली बसपा विधायक रामबाई अपने आंसू रोक न सकी तथा केमरे के सामने ही रोने लगी। उन्होंने पत्रकारों से रोते हुए  दौरान कहा कि, ‘उनके पति गोविंद सिंह और देवर चंदू सिंह से रोज बात होती है। अगर आईजी मुझे लिखकर दें कि सीबीआई जांच कराएंगे तो मैं दोनों को पेश करा दूंगी।’

बसपा विधायक का कहना है कि सीसीटीवी फुटेज में पूरी घटना है, मगर पुलिस दिखा नहीं रही है। वहीं उन्होंने कहा कि अगर उन्हें न्याय नहीं मिलता तो वे 10 दिन के अंदर विधानसभा के सामने आमरण अनशन करेंगी।उन्होंने कहा कि यदि वे जांच में शामिल मिलते हैं, तो वे विधायक पद से इस्तीफा देकर खुदकुशी कर लेंगी। उन्होंने कहा कि, ‘मेरे घर रोज पुलिस आ रही है, बच्चे परेशान हैं। अगर मेरे साथ कुछ होता है तो इसके लिए शासन-प्रशासन जिम्मेदार होगा।’ बता दें कि, कांग्रेस नेता के हत्याकांड का आरोप बसपा विधायक के पति व देवर पर है।

दूसरी ओर पुलिस अधीक्षक आरएस बेलबंसी ने शुक्रवार को भारी पुलिस बल के साथ पथरिया विधायक रामबाई के सभी ठिकानों पर छापा मारा। जिसमें बसपा विधायक के सागर नाका स्थित निवास, हिनौता, बांसा और फार्महाउस पर पुलिस टीम के साथ छापा मारा। वहीं डीआईजी दीपक वर्मा ने बताया कि आरोपियों को पकड़ने की हर संभव कोशिश जारी है। इनाम की राशि 10-10 हजार से बढ़ाकर 25-25 हजार कर दी गई है।

इस हत्याकांड के मुख्य आरोपी अभी तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर होने से लोगों में आक्रोश है। जिसके चलते शुक्रवार को मुस्लिम समाज ने भारी रैली निकाली और कांग्रेसी नेता देवेंद्र के पोस्टर लेकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। एसडीएम नाथूराम सिंह को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा। इससे पहले वारदात के विरोध में शहर की कई समाजें ज्ञापन दे चुकी हैं।