क्यों मानूं कंकाल मेरे बेटे का है, सवा साल पहले अपना खून दिया था, डीएनए करने को, कहां है रिपोर्ट?

शिरीष सिलकारी 

एमवाय अस्पताल में मौजूद 19 साल के किशोर का एक कंकाल। इधर, रोज मंदिर जाकर अपने बेटे के सकुशल होने की प्रार्थना करती एक मां। पुलिस के अनुसार यह कंकाल इस महिला सीमा सेन के बेटे हिमांशु का ही है जिसकी हत्या मेहंदीकुंड के पिकनिक स्पॉट में उसकी दोस्त श्रेया के साथ बीते साल ईश्वर भील और उसके साथियों ने लूट के बाद की थी। पुलिस ऐसा दावा तो कर रही है लेकिन सीमा के खून का जो सैम्पल लेकर इस शव के साथ डीएनए मैच करना था उसकी रिपोर्ट 439 दिन बाद भी सागर लैब से नहीं मंगवा पाई। ऐसे में परिजनों द्वारा शव का अंतिम संस्कार का दबाव होने के बावजूद सीमा मानने को तैयार नहीं कि उसका बेटा मर चुका है। यहां तक कि पति को बेटे की तस्वीर को माला पहनाने तक से रोक दिया। विडबंना यह है कि घटना के बाद से बड़गौंदा थाने में अब तक तीन टीआई बदल चुके हैं और सीमा हर एक के पास डीएनए रिपोर्ट मंगवाने की गुहार लगा चुकी है। महूूू एएसपी धर्मराज मीणा के अनुसार वे डीएनए के लिए रिमांडर भेज चुके हैं। सागर लैब के नए एडीजी से भास्कर ने बात की तो उन्होंने नई जॉइनिंग होने के कारण मामले का स्टेटस चेक करके बताने का अनुरोध किया।

अब तक हत्यारा भी नहीं पकड़ाया

िहमांशु और श्रेया के हत्याकांड में क्राइम ब्रांच और महू पुलिस ने बलराम सिंह मकवाना (20), अजय बारिया (16), केशव सिंह बारिया (17), ईश्वर भील (25) को आरोपी बनाया, लेकिन हत्या करने वाला ईश्वर भील आज तक पुलिस के हाथ नहीं लगा है। फरारी में ही उसने गोवा में कोल्वा बीच पर एक युवती का फिर गैंग रेप कर दिया था। गोवा पुलिस ने उसे गिरफ्तार भी किया था लेकिन कुछ माह पूर्व वह भाग निकला। इंदौर पुलिस उस पर 20 हजार का इनाम घोषित कर चुकी है। वहीं गोवा पुलिस ने 1 लाख का इनाम रखा है। लेकिन अभी तक वह हाथ नहीं आया है।

मेहंदीकुंड में लुटेरों ने की थी हत्या

पुलिस के मुताबिक, हिमांशु को मेहंदीकुंड के पिकनिक स्पॉट में महिला मित्र श्रेया (19) के साथ ईश्वर भील और साथियों ने लूट के बाद 300 फीट गहरी खाई में धक्का देकर मार डाला था। दोनों नवंबर 2017 से लापता थे। 1 मई 2018 को पुलिस ने खाई से दो कंकाल जब्त किए थे। शव के पास मिली एक अंगूठी, पानी की बोतल, टिफिन बॉक्स और टूटी चप्पल से श्रेया के पिता व परिवार वालों ने कंकाल उसी का होने की पुष्टि कर दी थी। वहीं, हिमांशु के एक जोड़ी जूते के आधार पर पुलिस ने श्रेया के साथ होने पर उसके शव की पुष्टि की थी। हिमांशु के पिता मुकेश सेन व अन्य परिजन तो पुलिस की बात से सहमत हो गए थे, लेकिन मां ने बेटे की मौत की बात को सही नहीं माना था।