पीकेएस न्यूज की खबर का असर हुआ सरकारी समिति के व्यवस्थापक हटाने के आदेश

 

मित्रपुरा -सवाई माधोपुर

(राकेश चौधरी)

गत दिनों पीकेएस न्यूज ने सरकारी समिति के व्यवस्थापक की कार्यशैली के संबंध में विस्तृत रुप से समाचार लगाया था यही समाचार का असर अब देखने को मिला है जब इनको हटाने के आदेश दिये है
उपखंड क्षेत्र बोली की ग्राम पंचायत गांव में सहकारी समिति व्यवस्थापक को बर्खास्त करने का दिया आदेशकेंद्रीय सहकारी समिति लिमिटेड के व्यवस्थापक द्वारा फर्जी ऋण उठाकर राज्य सरकार की ऋण माफी योजना 2018 के अंतर्गत शामिल किया। इस संबंध में ऋण माफी सूची की शाखा स्तर से बैंक स्तर पर संधारित व्यक्तिगत ऋण खातों से अंतरिम जांच करवाई गई। जिसके अनुसार 31 सदस्य जिन्हें बैंक की स्तर पर संधारित व्यक्तिगत ऋण खातों के अनुसार ऋण वितरण नहीं किया गया के नाम सूची में शामिल है तथा 25 व्यक्तिगत ऋण खातों में असल बकाया राशि में हेराफेरी कर माफी की सूची में अधिक दर्शाई गई है ।तथा कुछ खातों में अवधी पार की जगह अनाअवधि पार बताया गया है।

उप रजिस्ट्रार कार्यालय ने व्यवस्थापक को हटा वैकल्पिक व्यवस्थापक लगाने को किया निर्देशित।

उप रजिस्ट्रार कार्यालय ने मामले को गंभीरता से लेते हुए सहकारी समिति अध्यक्ष को व्यवस्थापक नादान सिंह को तुरंत प्रभाव से पदमुक्त कर नया वैकल्पिक व्यवस्थापक लगाने हेतु निर्देशित किया है।और साथ ही रिकॉर्ड को अपने कब्जे में करने के आदेश दिए हैं।

धारा 55में कराई जा रही है जांच।

उक्त मामले में राजस्थान सहकारी सोसायटी अधीनियम2001 कि धारा55के तहत जांच करावाई जारही है ।साथ ही जांच अधिकारी विरेन्द्र कुमार गुप्ता(निरी.कार्य) सहा.अधि.अधि.केंद्रीय सहकारी बैंक लि. को नियुक्त कर अविलंब जांच के आदेश देते हुए जांच रिपोर्ट10दिवस में पूर्ण करने के आदेश दिए गए हैं।

ईनका है यह कहना:-

जब हमने जांच अधिकारी विरेंद्र कुमार गुप्ता से इस प्रकरण में बात की तो उन्होंने बताया कि”धारा-55में मामले की जांच कि जा रही है ।और संपूर्ण ऋण माफी2018 के प्रत्येक खाते कि जांच की जा रही है और संपूर्ण ऋण माफी 2018 के प्रत्येक खाते की जांच की जाएगी।