कन्नौज, फर्रुखाबाद व अलीगढ़ समेत सात जिलों के 1000 लोगों के खिलाफ होगी कार्रवाई, जानिए वजह

अलीगढ़ । केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने एडवांस टैक्स को लेकर सख्त रवैया अपनाया है। आयकर विभाग के अलीगढ़ परिक्षेत्र (चार्ज) के सात जिलों के 1000 लोगों को चिह्नित किया है। इन्होंने एडवांस टैक्स जमा नहीं किया। इन्हें नोटिस भेजा गया है।

यह है मामला

यह मामले वित्तीय वर्ष 2012 -13 के हैं। सूत्रों ने बताया कि सीबीडीटी ने एटा, कासगंज, हाथरस, मैनपुरी, कन्नौज, फर्रुखाबाद व अलीगढ़ की विभिन्न बैंकों से 10 लाख से अधिक बैंक खातों में पैसा जमा किया था। इन खाता धारकों ने या तो रिटर्न दाखिल नहीं किया, या फिर दाखिल किए गए रिटर्न में इस पैसे का ब्यौरा नहीं दिया। यह पैसा या तो प्रोपर्टी बिक्री से जुटाया गया था, या खरीद के लिए बैंक खाते में जमा किया गया। सातों जिलों के वार्ड आयकर अधिकारियों को बैंक पते के आधार पर आयकर न चुकता न करने वालों के यहां नोटिस जारी किए गए हैं।

नोटिस का जवाब देना जरूरी

नोटिस भेजने से पहले वार्ड के आयकर अधिकारी ने क्षेत्र के आयकर इंसपेक्टर से पता खोजने के लिए भी कसरत कराई है। ताकि नोटिस का जवाब न देने वालों पर और भी सख्त कार्रवाई की जा सके। अहम बात यह है कि इस तरह की कार्रवाई हर साल होती है, बावजूद लोग लापरवाही बरतते हैं। इससे उनकी व्यक्तिगत छवि भी खराब होती है साथ ही अधिकारियों का समय भी खराब होता है।

आयकर अधिनियम की धारा 148 तहत हुई कार्रवाई

जिन लोगों को नोटिस जारी किए गए है, उनके खिलाफ आयकर अधिनियम की धारा 148 के तहत कार्रवाई की गई है। सीए घनश्याम माहेश्वरी का कहना है कि इस अधिनियम के तहत फाइल को री ओपन किया जता है। इस नोटिस को नजरअंदाज करने वालों को एक नोटिस और जारी किया जाएगा। जिसमें टैक्स की देनदारी (डिमांड) शामिल होगी। इसके बाद भी विभाग के समक्ष नोटिस धारक ने ध्यान नहीं दिया तो एक तरफा कार्रवाई होगी।  बैंक खाते भी अटैच किया जाएगा। जरुरत पडऩे पर संपत्ति भी अटैच की जाएगी।

सख्त होगी कार्रवाई

आयकर के प्रधान आयुक्त आनंद शरण सिंह का कहना है कि पहली खेप में 1000 हजार लोगों को नोटिस जारी किए गए हैं। जिन लोगों को नोटिस मिल गए हैं, वह अपना जबाव समय पर दे दें। अन्यथा और सख्त कार्रवाई की जाएगी।