EC ने रेलवे और उड्डयन मंत्रालय से मांगा जवाब, पूछा- क्यों नहीं हटाई गई PM की तस्वीर

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर चुनाव आयोग ने भी रेलवे और एयर इंडिया की टिकट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीरों को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना है। आयोग ने रेल मंत्रालय और नागरिक उड्डयन मंत्रालय को पत्र लिखकर जवाब मांगते हुए पूछा है कि आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद भी रेल टिकट से प्रधानमंत्री की तस्वीरें क्यों नहीं हटाई गई और तस्वीर लगा हवाई यात्रा पास क्यों जारी किया गया। चुनाव आयोग ने मंत्रालयों से तीन दिन के अंदर जवाब देने को कहा है।
चुनाव आयोग ने दिखाई सख्ती
चुनाव आयोग ने इस मामले में अपना रवैया सख्त करते हुए रेल मंत्रालय और नागरिक उड्डयन मंत्रालय को पत्र लिखक्र इस मामले में पूरी जानकारी मांगी है। हालांकि तृणमूल कांग्रेस की आपत्ति के बाद पीएम मोदी की तस्वीर वाले रेल टिकटों के कुछ बंडल वापस ले लिए गए थे लेकिन एयरइंडिया के बोर्डिंग पास पर अब भी प्रधानमंत्री की तस्वीरें देखी जा सकती हैं। इस बारे में एयर इंडिया ने कहा है कि तस्वीरों वाले बोर्डिंग पास किसी तीसरे पक्ष के विज्ञापन हैं और अगर उन्हें आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के रूप में देखा जाता है।
रेलवे ने भी दी थी सफाई
आपको बतां दे कि इससे पहले भी 20 मार्च को रेलवे ने इस मामले में सफाई देते हुए प्रधानमंत्री की तस्वीरों वाली टिकटें वापस ली थीं। तृणमूल कांग्रेस ने इनके बारे में निर्वाचन आयोग से शिकायत की थी। रेलवे ने भी यही कहा था कि ये तीसरे पक्ष के विज्ञापन हैं और एक साल पहले छपे टिकटों के पैकेट से बचे हुए हैं।