अंपायर की गलती पर जमकर बरसे विराट, कहा- यह आईपीएल है, क्लब क्रिकेट नहीं जहां…

बेंगलुरु : मुंबई इंडियन्स ने वीरवार को खेले गये मैच में रायल चैलेंजर्स बेंगलोर को छह रन से हरा दिया। यह मैच काफी रोमांचक रहा। कभी मुंबई इंडियंस का पलड़ा भारी दिखा तो कभी बेंगलोर की टीम हावी रही। इस मैच में का नतीजा चाहे जो भी हो पर दोनों टीमों के कप्तान मैच में अंपायरिंग से काफी नाराज दिखाई दिए। दरअसल बेंगलुरु की टीम को मुंबई के खिलाफ 187 रन का लक्ष्य मिला था जिसके जवाब में मेजबान टीम ने पांच विकेट पर 181 रन बनाये और उसे करीब से मात्र छह रन से शिकस्त झेलनी पड़ी जिसमें मैदानी अंपायर रवि का विराट की टीम को खामियाजा भुगतना पड़ा जब उनसे एक नो बॉल का निर्णय छूट गया। मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में बेंगलुरु के कप्तान ने अंपायर पर नाराज़गी जताते हुये कहा,‘‘ हम आईपीएल जैसे बड़े स्तर के टूर्नामेंट में खेल रहे हैं न कि यह कोई क्लब क्रिकेट है।

यह बहुत मजाकिया है कि आखिरी गेंद पर उन्होंने निर्णय गलत लिया। अंपायरों को अपनी आंखें खोलकर रहना चाहिये।’’ विराट की टीम को इस गलती का खामियाजा करीबी 6 रन की शिकस्त से भुगतना पड़ा और लगातार दूसरा मैच टीम गंवा बैठी। विराट ने कहा, ‘‘जब मैच इतना करीब का हो तो कुछ भी हो सकता है। अंपायरों को ऐसे में ज्यादा सतर्कता बरतनी चाहिये।’’ आरसीबी को आखिरी गेंद पर सात रन चाहिये थे और सुपर ओवर में जाने के लिये छह रन चाहिये थे। मुंबई के लसित मलिंगा की शिवम दुबे को फेंकी गयी आखिरी गेंद नो बॉल थी लेकिन मैदानी अंपायर से यह छूट गयी।

न सिर्फ विराट बल्कि मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा ने भी मैदानी अंपायर की आलोचना की। उन्होंने कहा,‘‘ हमें भी पता चला था कि यह नो बॉल थी। इस तरह की गलतियां मैचों में नहीं होनी चाहिये। इससे पिछले ओवर में बुमराह की एक गेंद जो वाइड नहीं थी उसे भी वाइड करार दे दिया गया था। अंपायरों को देखना चाहिये कि क्या हो रहा है। खिलाड़ी इसमें अधिक नहीं कर सकते। हमें केवल हाथ मिलाकर जाना होता है। इस तरह की अंपायरिंग गलतियां निराशाजनक है।’’