बस स्टेंड पर पेयजल के लिए भटके राहगीर

बौंली (अजयशेखर शर्मा)
झिलाय. कस्बें के बस स्टैण्ड़ स्थित विश्रामगृह में विगत कुछ माह से बंद
पड़ी सार्वजनिक प्याऊ को पुन: संचालित करवाने की मांग को लेकर स्थानीय
व्यापार मण्डल ने शुक्रवार को सरपंच भंवरलाल यादव को ज्ञापन सौपा।
व्यापार मण्डल के अध्यक्ष कमलेश मित्तल, गिर्राज सोनी, राकेश विजय,
रामदयाल सैनी, मुरलीधर अग्रवाल, त्रिलोक चन्द्र अग्रवाल, राजेन्द्र
शर्मा, मनमोहन साहू, सूरज मल समेत अन्य लोगो ने ज्ञापन में बताया कि गांव
झिलाय में ग्राम पंचायत की ओर से बस स्टैण्ड पर विश्राम गृह में संचालित
सार्वजनिक प्याऊ पिछलें कुछ वर्षों से बन्द पडी होने से राहगीरों को
परेशानी का सामना करना पड रहा है। गौरतलब है कि ग्राम पंचायत झिलाय की ओर
से सन् 1998 में तत्कालीन सरपंच पुष्पा सोनी के कार्यकाल में बस स्टैण्ड
पर आने-जाने वाले राहगीरों को की प्यास बुझानें के लिए विश्रामगृह में
सार्वजनिक प्याऊ का निर्माण करवाया गया था। परन्तु अब पंचायत प्रशासन की
देखरेख के अभाव में बंद पडी है। उन्हौने बताया कि प्याऊ के समीप राजकीय
मॉडल स्वास्थ्य केन्द्र स्थित है, जिसमें आने-जाने वालें मरीजों व
राहगीरों को पेयजल के अभाव में इधर-उधर भटकना पड रहा है। गौरतलब है कि बस
स्टेण्ड पर प्रतिदिन जामडोली, करीरिया, नौहटा, रहड, बहड, महापुरा, भरथला,
जीवली, भैरूपुरा, खिडगी, बस्सी, सिरोही, बडागांव, गंगापुरा, हरिपुरा,
गोपालपुरा, नयागांव, संग्रामपुरा, ललवाडी, केरोद, खाजपुरा, गुगडोद,
मित्रपुरा, बौंली, शिशोलाव, रामनगर, धतुरी, भंवरसागर, सिंदरा, मण्डालिया,
लक्ष्मीपुरा, समेत अन्य गांवों के लोग इस मार्ग से आवागमन करते है। जिनको
अपनी प्यास बुझानें के लिए इधर-उधर बस स्टैण्ड की दुकानों पर दर-दर की
ठोकरें खाने को मजबूर हो पड रहा है। उन्होने बताया कि प्याऊ बन्द रहने
प्रभावशाली लोग सब्जी के ठेलें लगाकर अतिक्रमण करना आरंभ कर दिया है।
जिससें प्याऊ का नामोनिशान मिटता जा रहा है। गौरतलब है कि समय रहते
कार्यवाही नही की गई तो प्याऊ का अस्तित्व खतरें में है। ग्रामीणों ने इस
बारे में स्थानीय ग्राम पंचायत प्रशासन को कई बार अवगत करवाया मगर इस ओर
आज तक कोई ध्यान नही दिया गया। इधर सरपंच भंवरलाल यादव ने व्यापार मण्डल
को आश्वस्त किया कि शीघ्र ही एक पखवाड़े के भीतर-भीतर ही ग्राम पंचायत
द्वारा प्याऊ को पुन: संचालित कर दिया जाएगा।

समस्या: जिला कलक्टर को भेजा ज्ञापन…

निर्माणाधीन निवाई-बौंली सडक़ मार्ग पर गति अवरोधक बनाने की गुहार

पूर्व में भी इस घनी आबादी क्षैत्र में कई लोग हो चुके है अकाल मृत्यु का शिकार
बौली(अजयशेखर शर्मा)
झिलाय. कस्बें के मध्य से गुजर रहे निर्माणाधीन निवाई-बौंली सडक़ मार्ग पर
घनी आबादी क्षैत्र के मुख्य-मुख्य रास्तों पर गति अवरोधक (ब्रेकर)
बनवानें की मांग को लेकर स्थानीय ग्रामीणों ने जिला कलक्टर को ज्ञापन
भेजकर गुहार लगाई है। कांग्रेस सेवादल के पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष जितेन्द्र
कुमार रैगर, नन्दलाल रैगर, कजोड़मल, राजेन्द्र, श्योजीलाल, वार्ड़पंच
प्रमोद रैगर, चौथमल माहूर समेत अन्य लोगों ने ज्ञापन में बताया कि
सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा निवाई-बौंली सडक़ मार्ग को चौड़ा व
नवीनीकरण का कार्य किया जा रहा है। उन्होने बताया कि यह सडक़ मार्ग कस्बें
के मुख्य बाजार बस स्टैण्ड़ के बीच से होकर गुजर रहा है। जो घनी आबादी
क्षैत्र है। गौरतलब है कि इस क्षैत्र में हर पल लोगों की आवाजाही रहती
है, एवं आबादी क्षैत्र में विभिन्न सरकारी व अर्धसरकारी संस्थान एवं आम
रास्ते निकलते है। जिसमें आमजन का आवागमन अत्यधिक बना रहता है। उल्लेखनीय
है कि पूर्व इस घनी आबादी क्षैत्र में कई लोग अकाल मृत्यु का शिकार हो
चुके है, भविष्य में किसी बड़ी अनहोनी घटना घटित न हो इसलिए आबादी
क्षैत्र के सरकारी व अर्धसरकारी संस्थानों व आम रास्तों के मुख्य द्वार
पर सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा सडक़ पर गति अवरोधक (ब्रेकर) लगवाया
जाना आवश्यक है। ग्रामीणों ने बताया कि राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक
विद्यालय गोवर्धन खेल स्टेडिय़म के सामने, जमना प्याऊ, सिन्दरा रोड़
तिराहा पुलिया के समीप, आयुर्वेदिक चिकित्सालय के सामने, सिन्दरा दरवाजा
बालाजी के सामने, खिडग़ी रोड़ तिराहा, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के
सामने, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के सामने, विश्रामगृह शीतला माता
मंदिर के समीप, सिरोही-झिलाय-बौंली तिराहे पर, तेलोलाई बालाजी के मंदिर
के सामने जिला कलक्टर को ज्ञापन भेजकर गति अवरोधक लगवाने की गुहार लगाई
है।