स्टेनो को भारी पड़ा कलेक्टर का फोन न उठाना, तत्काल सस्पेंड कराया

शहडोल: स्टेनो को कलेक्टर का फोन न उठाना महंगा पड़ा। उसे अपनी नौकरी से हाथ धोने पड़े। शहडोल कलेक्टर ललित दाहिमा 28 मार्च को भोपाल के लिए ट्रैन से निकले थे, रात में उन्होंने किसी काम से अपने स्टेनो दुर्गाशंकर श्रीवास्तव को फ़ोन लगाया, लेकिन स्टेनो कलेक्टर का फ़ोन नहीं उठा सके। जिससे कलेक्टर भड़क गए और उन्होंने एसडीएम को फ़ोन लगाकर स्टेनो को तत्काल सस्पेंड करने के आदेश दे दिए।

कलेक्टर ललित दाहिमा 28 मार्च को चुनाव ड्यूटी के दौरान भोपल के लिए निकले और रात के समय उन्होंने किसी जरूरी कार्य से स्टेनो दुर्गाशंकर श्रीवास्तव को फ़ोन लगाया था। लेकिन स्टेनो ने उनका फोन नहीं उठाया। जिससे नाराज कलेक्टर भड़क गए और उन्होंने तभी एसडीएम अशोक ओहरी को फ़ोन लगाकर स्टेनो को तत्काल सस्पेंड करने का आदेश दिया। इतना ही नहीं कलेक्टर ने तत्काल निलंबित के आदेश की कॉपी भी व्हाट्सएप पर मंगवाई। नतीजन एसडीएम ने रात में ही स्टेनो को सस्पेंड करने का आदेश जारी किए और कलेक्टर को इसकी सूची मोबाइल पर भेजी गई। वहीं दूसरे दिन जब स्टैनो दफ्तर पहुंचा तो उसे निलंबन की सूचना मिली, इस पर उनका कहना था कि फोन साइलेंट था इसलिए कॉल देख नहीं पाया। इस संबंध में स्टेनो ने कलेक्टर से भी बात करनी चाही लेकिन बात नहीं हो पाई। स्टैनो के विरुद्ध पदीय दायित्वों का सही ढंग से निर्वहन नहीं करने और कर्तव्यों के प्रति लापरवाही बरतने पर सिविल सेवा आचरण नियम के तहत कार्रवाई की गई है।