लालू के लाल का नया बवाल, इधर मुश्किल में पार्टी उधर डैमेज कंट्रोल में जुटा परिवार

पटना

क्‍या है ताजा मामला, जानिए
लालू प्रसाद यादव के लाल तेज प्रताप यादव ने पार्टी व परिवार में माेर्चा खोल दिया है। पहले पत्‍नी एेश्‍वर्या राय से तलाक मामले में परिवार से अलग-थलग पड़े तेज प्रताप धीरे-धीरे पार्टी में भी हाशिए पर चले गए हैं। अब लोकसभा चुनाव में युवाओं को आगे बढ़ाने के बहाने उन्‍होंने पार्टी में अलग मोर्चा खोल दिया है।
वे दो संसदीय सीटों जहानाबाद व शिवहर पर अपनी पसंद के प्रत्याशी चाहते हैं। वे सारण की सीट से अपने ससुर चंद्रिका राय को प्रत्‍याशी बनाए जाने का भी विरोध कर रहे हैं। लेकिन दो दिनों पहले तेजस्‍वी यादव ने उनकी पसंद को दरकिनार करते हुए जहानाबाद से पार्टी के प्रत्‍याशी की घोषणा कर दी तो शिवहर में प्रत्‍याशी के नाम को पेंडिंग रखा। इससे खफा तेज प्रताप अब अपने घोषित प्रत्‍याशियों से निर्दलीय नामांकन कराएंगे तथा उनके समर्थन में खुद खड़े रहेंगे। कहा जा रहा है कि तेज प्रताप सारण सीट पर अपने ससुर को भी चुनौती दे सकते हैं।।
राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव फिर नई मुश्किल में हैं। इस बार बगावत की चिंगाारी घर से ही फूटी है। मामला बड़े बेटे तेज प्रताप यादव का पार्टी व परिवार के खिलाफ फिर मोर्चा खोलने का है। तेज प्रताप लोकसभा चुनाव में जहानाबाद व शिवहर सीटों पर अपनी पसंद के प्रत्‍याशी चाहते हैं, जबकि उनके भाई तेजस्‍वी यादव ने जहानाबाद से ऐसे प्रत्‍याशी को टिकट दे दिया है, जिसे तेज प्रताप देखना नहीं चाहते। तेज प्रताप से पार्टी के बड़े नेताओं की नाराजगी को देखते हुए लालू डैमेज कंट्रोल में जुटे हैं। लालू व राबड़ी अपने नाराज बेटे को समझाने में भी लगे हैं, लेकिन इसका असर नहीं दिख रहा है।

सुझाव को तेजस्‍वी ने किया दरकिनार
महागठबंधन के साझा संवाददाता सम्‍मेलन के ठीक पहले तेज प्रताप यादव ने जहानाबाद व शिवहर से अपने प्रत्‍याशियों क्रमश: चंद्र प्रकाश व अंगेश सिंह को टिकट देने का सुझाव दिया था। संवाददाता सम्‍मेलन में तेज प्रताप यादव के छोटे भाई तेजस्‍वी यादव ने सुझाव को दरकिनार कर जहानाबाद से पार्टी के प्रत्‍याशी की घोषणा कर दी। वहीं, शिवहर से प्रत्‍याशी के नाम की घोषणा नहीं की। संवाददाता सम्‍मेलन में जब तेज प्रताप के प्रत्‍याशियों की बाबत सवाल उठे तो तेजस्‍वी ने कहा कि वह ‘सुझाव’ मात्र था।