ताबड़तोड़ फायरिंग में बालक की चली गई जान, तीन जख्मी

प्रयागराज : नवाबगंज थानाक्षेत्र के सराय जयराम गांव में रविवार शाम नाली बनवाने के लिए रखी ईंट घर के सामने बिछाने पर दो पक्षों में विवाद हो गया। झगड़ा बढऩे पर एक पक्ष ने ताबड़तोड़ फायङ्क्षरग कर दी। इससे 12 वर्षीय छात्र कुलदीप उर्फ छूरीबाज की मौत हो गई। गोली लगने से कुंवर बहादुर (30), रणजीत उर्फ पुटुरे (28) व राजकिशोर उर्फ बबई यादव (31) जख्मी हो गए। तीनों को स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पीडि़त पक्ष ने ग्राम प्रधान के बेटों और उसके साथियों पर हत्या व हमले का आरोप लगाया है। पुलिस आरोपितों की तलाश में दबिश दे रही है।

क्या था मामला, कैसे हुई वारदात

पुलिस के मुताबिक, ग्राम प्रधान व पीडि़त पक्ष के बीच पहले से विवाद चला आ रहा था। कुछ दिनों पहले कुंवर बहादुर व अन्य के मकान के सामने पक्की नाली बनवाई गई थी। इसी दौरान करीब 20 ईंट बच गई थी। आरोप है कि कुंवर बहादुर व उनके पट्टीदारों ने उसी ईंट को घर के बाहर बिछा दी थी। इसी को लेकर ग्राम प्रधान पक्ष के लोगों का विवाद हो गया। झगड़ा बढ़ते ही रायफल, बंदूक व तमंचे से फायङ्क्षरग होने लगी। घर के बाहर बैठे छठीं के छात्र कुलदीप पुत्र अमृत लाल के सीने में गोली लग गई। वहीं कुंवर बहादुर, रणजीत व राजकिशोर भी गोली से घायल हो गए। इससे गांव में सनसनी फैल गई।

प्रयागराज : नवाबगंज थानाक्षेत्र के सराय जयराम गांव में रविवार शाम नाली बनवाने के लिए रखी ईंट घर के सामने बिछाने पर दो पक्षों में विवाद हो गया। झगड़ा बढऩे पर एक पक्ष ने ताबड़तोड़ फायङ्क्षरग कर दी। इससे 12 वर्षीय छात्र कुलदीप उर्फ छूरीबाज की मौत हो गई। गोली लगने से कुंवर बहादुर (30), रणजीत उर्फ पुटुरे (28) व राजकिशोर उर्फ बबई यादव (31) जख्मी हो गए। तीनों को स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पीडि़त पक्ष ने ग्राम प्रधान के बेटों और उसके साथियों पर हत्या व हमले का आरोप लगाया है। पुलिस आरोपितों की तलाश में दबिश दे रही है।

क्या था मामला, कैसे हुई वारदात

पुलिस के मुताबिक, ग्राम प्रधान व पीडि़त पक्ष के बीच पहले से विवाद चला आ रहा था। कुछ दिनों पहले कुंवर बहादुर व अन्य के मकान के सामने पक्की नाली बनवाई गई थी। इसी दौरान करीब 20 ईंट बच गई थी। आरोप है कि कुंवर बहादुर व उनके पट्टीदारों ने उसी ईंट को घर के बाहर बिछा दी थी। इसी को लेकर ग्राम प्रधान पक्ष के लोगों का विवाद हो गया। झगड़ा बढ़ते ही रायफल, बंदूक व तमंचे से फायङ्क्षरग होने लगी। घर के बाहर बैठे छठीं के छात्र कुलदीप पुत्र अमृत लाल के सीने में गोली लग गई। वहीं कुंवर बहादुर, रणजीत व राजकिशोर भी गोली से घायल हो गए। इससे गांव में सनसनी फैल गई।