प्रियंका पर CM योगी का बड़ा हमला,कहा- कांग्रेस को 44 से चार पर लायेंगी वाड्रा

लखनऊ: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा पर सीधा हमला बोलते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राम जन्मभूमि को विवादित बताकर प्रियंका ने कांग्रेस को 44 सीटों से समेट कर 4 पर लाने का बीड़ा उठाया है। दादरी के बिसाहड़ा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए योगी ने कहा कि राम जन्मभूमि को विवादित बताने वाली प्रियंका बताएं कि जमानत पर चल रहे अपने परिवार से वह मिलती है कि नहीं।

उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि हिन्दू आस्था का प्रतीक है, देश और दुनिया अयोध्या को राम जन्मभूमि के रूप में देखती है। 30 सितंबर 2010 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय की विशेष पीठ ने अपने निर्णय में यह माना है कि जहां रामलला विराजमान है, वहीं रामजन्मभूमि है, तो यह विवादित जगह कैसे हो गई। योगी ने कहा कि प्रियंका अयोध्या जाकर भी रामलला के दर्शन के लिए नहीं जातीं हैं, तो क्या वह अपनी माता सोनिया गांधी, भाई राहुल गांधी और पति राबर्ट वाड्रा से मिलती हैं, जो कोर्ट द्वारा दी गई जमानत पर चल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि प्रियंका राम जन्मभूमि सिर्फ इसलिए नहीं गईं, क्योंकि उनको लगता है कि रामलला के दर्शन से एक वर्ग विशेष उनसे नाराज हो जाएगा। जिसकी वजह से वह हिन्दू आस्था के विषय को विवादित बता रही हैं। योगी ने कहा कि अयोध्या में राम जन्भूमि विवाद की अगर सबसे बड़ी कोई बाधा है, तो वह कांग्रेस, सपा और बसपा है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार समाज के प्रत्येक वर्ग के लिए समान भाव से कार्य करेगी, लेकिन कभी तुष्टिकरण की राजनीति नहीं करेगी।

उन्होंने कांग्रेस से पूछा कि किस आधार पर उसने हिंदू आतंकवाद शब्द रचा और कैसे हिंदू समाज को आतंकवादी ठहरा दिया गया जबकि हिंदू अपनी सहिष्णुता और शांतिप्रियता के लिए जाने जाते हैं। योगी ने कहा कि कांग्रेस आतंकवाद को प्रोत्साहित करती है। यही कारण है कि इस बार कांग्रेस 44 सीटों से सिमटकर चार पर आ जाएगी।

योगी ने सपा-बसपा गठबंधन को फेल बताते हुए कहा कि ये भ्रष्टाचार और अराजक दलों का गठबंधन है। ये आतंकवाद को प्रेरित और प्रोत्साहित करने वाले दलों का गठबंधन है। 2013 में राम सेतु को तोड़ने का निर्णय कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार ने किया था और सुप्रीम कोर्ट में बयान दिया था कि राम और कृष्ण का तो अस्तित्व ही नहीं है। योगी ने कांग्रेस से सवाल पूछा ‘‘जब वे राम और कृष्ण के अस्तित्व पर यकीन नहीं रखते तो कांग्रेस के नेता बार-बार मंदिर क्यों जा रहे हैं।