शिकारियों का पीछा करने के दौरान घायल हुए वन्यजीव प्रेमी की मौत, धरने पर बैठे लोग

गर्वित श्रीवास्तव 

जोधपुर. बिलाड़ा के खेजड़ला गांव में गत 22 मार्च को वन्य जीव का शिकार कर भाग रहे शिकारियों का पीछा करते समय कार की टक्कर लगने से गंभीर रूप  से घायल हुए प्रतापराम माली ने रविवार रात उपचार के दौरान एमडीएम अस्पताल में दम तोड़ दिया। इस घटना की जानकारी मिलते ही माली समाज और वन्य जीव प्रेमी एमडीएम अस्पताल में धरने पर बैठ गए। धरना दे रहे लोग शिकारियों को तुरंत गिरफ्तार करने के साथ मृतक को शहीद का दर्जा देने की मांग कर रहे है। हालांकि पुलिस ने दावा किया है कि इस मामले में आज सुबह दो जनों को हिरासत में ले लिया गया है।

दस दिन पूर्व शिकारियों का पीछा करने के दौरान भागते हुए शिकारियों ने प्रतापराम माली को कार से टक्कर मार गंभीर रूप से घायल कर दिया। हालांकि परिजनों का कहना है कि शिकारियों ने उसे गोली मार कर घायल किया। पुलिस ने बताया कि 22 मार्च को प्रतापराम खेत में काम कर रहा था तब निकट में ही गोली चलने की आवाज आने  पर वह गोली लगने वाली दिशा में अपनी बाइक लेकर शिकारियों को पकडऩे के लिये पीछे दौड़ा तो शिकारियों ने  पकड़े जाने के भय से उसको टक्कर मारने के साथ डराने की नीयत से फायरिंग भी की।

अस्पताल में चला हंगामा
प्रतापराम की मौत का समाचार फैलते ही बड़ी संख्या में वन्यजीव प्रेमी अस्पताल में एकत्र होना शुरू हो गए। उन्होंने अपनी मांगे पूरी नहीं होने तक शव उठाने से इनकार कर दिया। उनकी मांग है कि शिकार करने वाले सभी आरोपियों की गिरफ्तार किया जाए, मृतक को शहीद का दर्जा देने, एक आश्रित को सरकारी नौकरी देने की मांग और परिजनों को नकद मुआवजा दिया जाए। साथ ही शिकारियों को अब तक पकड़ने में नाकाम रहे पुलिस अधिकारियों को निलम्बित किया जाए।

मुख्य अभियुक्त गिरफ्तार
पुलिस ने प्रतापराम की मौत के बाद माहौल बिगड़ने के भय से 23 मार्च को दर्ज मुकदमें में आरोपियों की धरपकड़ शुरू की। पुलिस का कहना है कि इस मामले में वांछित एक मुख्य अभियुक्त कुंदन सिंह और चैनाराम को हिरासत में लिया गया है।