ग्वालियर में हाई अलर्ट: शहर हुआ छावनी में तबदील, इंटरनेट बंद रखने का प्रस्ताव

ग्वालियर: पिछले साल शहर में मचे उत्पात को लेकर 2 अप्रैल के मद्देनजर हाई अलर्ट जारी किया है। एक साल पहले 2 अप्रेल को एससी एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में हुए उपद्रव की पहली बरसी के चलते शहर में यह फैसला लिया गया है। पुलिस ने पिछली बार की घटना से सबक लेकर सुरक्षा प्लान तैयार किया है।
बता दें कि, शहर के अंदर 10 ऐसे संवेदनशील पॉइंट हैं, जहां पिछली बार सबसे अधिक उपद्रव हुआ था। यह पॉइंट रविवार शाम से ही पुलिस छावनी में तब्दील हो गए हैं। यहां सुरक्षा में सीआरपीएफ और एसएएफ जवान तैनात रहेंगे। ड्रोन से भी निगरानी होगी और पुलिस किराए पर सीसीटीवी कैमरे लेकर लगवा रही है। इसके साथ ही ग्वालियर पुलिस ने शहर में आगामी 36 घंटे के लिए इंटरनेट बंद रखने का प्रस्ताव गृह विभाग को भेजा है।

गृह विभाग को भेजे गए प्रस्ताव पर स्वीकृति मिलने के बाद ही इंटरनेट सेवा बंद की जाएगी। वहीं शहर-देहात के एक-एक संवेदनशील इलाके को अफसरों ने रडार पर ले लिया है। इंटेलिजेंस इनपुट को भी बार-बार क्रॉस चेक किया जा रहा है। प्रशासनिक आदेश के अनुसारकोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार के हथियार जैसे लाठी, डंडा, सरिया फावड़ा हॉकी आदि का प्रदर्शन नहीं करेगा, न ही लेकर चलेगा। किसी भी प्रकार के कट आउट बैनर पोस्टर फ्लेक्स होर्डिंग्स झंडे आदि पर किसी भी धर्म व्यक्ति संप्रदाय जाति या समुदाय के विरुद्ध नारे या अन्य भड़काऊ भाषा का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। सोशल मीडिया पर कोई भी ऐसी पोस्ट नहीं की जाएगी जो किसी वर्ग विशेष या धर्म से संबंधित हो। प्रशासन की तरफ से निकाले गए आदेश के अनुसार, 1 अप्रैल यानि सोमवार को सुबह 6 बजे से 3 अप्रैल की रात्रि 12 बजे तक जिले की सीमा क्षेत्र में प्रभावशील कर दिया गया है। आदेश का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 188 एवं अन्य दंडात्मक प्रावधानों के तहत कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है कि पिछले साल हुए उपद्रव में तीन लोगों की मौत हुई थी। इसके बाद मुरार, थाटीपुर क्षेत्र में कर्फ्यू तक लगाना पड़ा था। इसे लेकर सोशल मीडिया पर कुछ लोग श्रद्धांजलि सभा तो कुछ लोग अन्य आयोजनों को लेकर आव्हान कर रहे हैं। इसलिए पुलिस और प्रशासन अलर्ट है।ताकि दोबारा कोई अनहोनी न हो जाए। सबसे ज्यादा संवेदनशील क्षेत्रों में थाटीपुर के भीमनगर, अंबेडकर नगर, सरकारी मल्टी, चौहान प्याऊ, साठ फुटा रोड, अंबेडकर पार्क, मुरार, सिरोल और गोला का मंदिर शामिल हैं। यहां पिछले साल सबसे ज्यादा उपद्रव हुआ था। इसके चलते यहां अर्द्धसैनिक बल तैनात किए गए हैं। शहर में रविवार शाम को कलेक्टर अनुराग चौधरी, एसपी नवनीत भसीन यहां पहुंचे। एसपी ने माउंटेन हॉर्स गश्त शुरू करवाई, जिसमें घोड़ों पर सवार होकर पुलिसकर्मी निकलेे। अगले तीन दिन तक इसी तरह सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। रविवार को जारी एडवायजरी में प्रशासन ने स्पष्ट किया कि अगर 1 से 3 अप्रैल तक 5 से अधिक लोग इकट्ठे हुए तो कार्रवाई होगी।